मक्खन और मसालों की सुगंध

 flavours of spices and butter

                         



आप किसी भी स्तर पर गोली, टाफी और बिस्कुट का उत्पादन करें या वेफर्स जैसेे रेडीमेड खाद्य पदार्थों का, आइसक्रीम  बनाएं या शरबत और शीतल पेय, इनमें मसालों को पीसकर डाल ही नहीं सकते। वैसे भी यूरोपीय पद्धतियों के इन भोजनों में मसालों का प्रयोग इतनी कम मात्रा में होता है कि वेफर्श तक में मिर्च मसालों का स्वाद तक नहीं होता। परंतु लगभग सभी भोज्य और पेय पदार्थों में मसालों की भरपूर सुगंध अवश्य होती है। यह सुगंध भी वास्तविक मसाले के अर्क अथवा तेल की नहीं होती, बल्कि कुछ अपेक्षाकृत सस्ते आर्को और कम हानिप्रद रसायनों को मिलाकर तैयार की जाती हैं।  यहां तक कि बिस्किट, केक, पेस्ट्री, चॉकलेट, टॉफी और आइसक्रीम में भी क्रीम, पनीर, मक्खन अथवा देसी घी का प्रयोग नहीं होता। इनका प्रयोग करने पर ये वस्तुयें शीघ्र ही सड़ जाएंगी,अतः चिकनाई के लिए तो रिफाइंड खाद्य तेलों और ग्वार गम या स्टार्च की लेहीयोों का प्रयोग किया जाता है, तथा सुगंध के लिए मक्खन, क्रीम और पनीर आदि की रसायनों से निर्मित सुगंध मिलाई जाती हैं। सबसे बड़ी बात तो यह है कि मक्खन आदि के यह सुगंध मिश्रण स्वयं भी एकाध  दिन में ही सड़कर दुर्गंध देने लगते हैं। अतः घरेलू मिक्सर कम ग्राइंडर के जार में घोटकर तैयार करने के बाद तत्काल ही प्रयोग कर लिए जाते हैं। 

मक्खन की सुगंध butter flavour

वनस्पति तेलों, मक्खन निकले दूध के पाउडर अथवा मक्का के स्टार्च की लेही में 2 से 10% तक यह सुगंध मिलाने पर उनमें शुद्ध देसी घी, मक्खन या संपूर्ण क्रीम युक्त दूध जैसी खुशबू आने लगती है। मिक्सर में घोटकर यह मिश्रण तैयार किया जाता है और चंद घंटों के अंदर ही प्रयोग कर लेना अनिवार्य होता है।
         रिफाइंड खाद्य तेल          200 ग्राम 
         ब्यूटीरिक एसिड             55 ग्राम 
        इथाइल ब्यूटीरेट              55 ग्राम 
       डॉय एसिटल।                  42 ग्राम 
       बूतायल बुतायरिल लेक्टेट     36 ग्राम
       डिस्टिल्ड लेमन आयल        3.2 ग्राम
       बैंजल्डिहाइड।                   1.6 ग्राम
       जायफल का तेल                2 ग्राम

मक्खन की तीक्ष्ण सुगंध strong butter flavour

यूरोप में यह फार्मूला अधिक प्रचलित है। तेलों का प्रयोग ना होने के कारण काफी तेज होती है यह सुगंध और इसे कुछ दिन रखकर भी प्रयोग किया जा सकता है। माप तोल और रचकों की संख्या के आधार पर काफी जटिल है यह फार्मूला।  यही कारण है कि पर्याप्त बड़े स्तर पर खाद्य पदार्थों अथवा धुपों का निर्माण करने वाले संस्थान ही इसका प्रयोग करते हैं।
               डाईएसीटल               1066 ग्राम
              ब्यूटीरिक एसिड           677.06 ग्राम
              लैक्टिक एसिड            91.08 ग्राम
              बेनीलीन                    73.48 ग्राम 

              बैंजोडीहाइड्रोपायरोन      23.76 ग्राम
             एथाइल ब्यूटीरेट ।           18.52 ग्राम
              सिन्नेमिल ब्यूटीरेट           73.6 ग्राम
            बेंजीलिडीन एसीटोन         5.28 ग्राम
            बेलेरिक एसिड।                11 ग्राम
            हिलियोट्रोपीन                   9.20 ग्राम
            सिनेमिक एल्डिहाइड         7.48 ग्राम

 पनीर की सुगंध cheese flavour

                प्रोपिलीन ग्लाइकोल          500 ग्राम
                इथाइल ब्यूटी रेट              10 ग्राम
                ब्यूटाईल ब्यूटीरिल लेक्टेट   10 ग्राम
                ब्यूटीरिक एसिड               10 ग्राम
               केप्रोइक एसिड                 5 ग्राम
               मिथाइल एन एमाईल कीटोन   20 ग्राम
              अमोनियम आइसोबेलरेट         20 ग्राम
             आइसोबेलेरीक एसिड अनहाइड्रस   10 ग्राम
             निरगंध अल्कोहल                        150 मिली

सभी सूखे रसायनों को वैद्यों वाले खरल में थोड़े थोड़े अल्कोहल में घोटकर 1 सीसी में डालते जाते हैं। हफ्ते 10 दिन रखने के बाद प्रयोग करते हैं। शीशी को नित्य दो तीन बार हिलाना अनिवार्य है।

क्रीम की सुगंध flavour of cream

कुमारीन और बेनीलीन को वैद्यों वाले खरल में थोड़ा अल्कोहल मिलाकर घोट लेने के बाद संपूर्ण अल्कोहल में डालकर रख देते हैं। दूसरे दिन इसे गिलसरीन और पानी में मिलाकर मिक्सी में घोटने के बाद तत्काल प्रयोग कर लिया जाता है।
                कौमारिन              30 ग्राम
               वैनिलिन                50 ग्राम
               ग्लिसरीन               500 ग्राम
               निर्गन्ध अल्कोहल   100 मिली
                ताजा पानी            400 मिली

कोको की सुगंध कोको फ्लेवर

कोको के आसवन विधि से निकाले गए अर्क में कुछ रसायन मिलाकर 10 se 15 दिन रखा रहने पर अत्यंत तीक्ष्ण सुगंध तैयार हो जाती है। कोको के स्वाद और सुगंध वाले खाद्य और पेय पदार्थों में अत्यंत अल्प मात्रा में इसे मिलाया जाता है। इस फार्मूले में सभी रचकों की मात्रा भी भार में दी गई है। अतः तरल या द्रव तौल कर ही डाले जाएंगे।
           कोको फ्लेवर डिस्टिलेट              1.5 किलोग्राम
           प्रोपिलीन ग्लाइकोल                   837 ग्राम
           बेनेलीन ।                                 105 ग्राम
           एमिल फिनिल एसिटेट ।              77 ग्राम
           बेंजियल ब्यूटीरेट                        5 ग्राम
           वेरेट्राल्डिहाइड ।                        5 ग्राम

चॉकलेट की सुगंध चॉकलेट फ्लेवर


कोको की सुगंध काफी तीक्ष्ण होती है। परंतु होती है यह असली चॉकलेट के समान मक्खन और कोको की सुगंध के मिश्रण से मिलती जुलती। अच्छी चॉकलेट टॉफी और चाकबार आइसक्रीम में ही इसका प्रयोग किया जाता है, तो सामान्य गोली, टाफीयों और दूध आदि में उपरोक्त को को सुगंध का।
           कोको फ्लेवरिंग एक्सट्रेट          1.5 किलोग्राम
           वैनिलिन                                70 ग्राम
           एल्डिहाइड सी 18                  1.5 ग्राम
           वेरेट्राएल्डिहाइड                      1.5 ग्राम
           एमाइल फिनायल एसिटेट         70 मिली
           नॉर्मल ब्यूटाईल फिनाइल इथाइल एसीटेट       9मिली
          प्रोपीलीन गलायकोल ।                        755 मिली

वनीला की सूगंध वनीला फ्लेवर


खाद्य पदार्थों में प्रयोग किए जाने वाले आधार रचकों की गंध दबाने और उनमें मिलाई जाने वाली सुगंध के खुलकर आने के लिए लगभग सभी खाद्य पदार्थों आइसक्रीम और टाफियो आदि में कम या अधिक मात्रा में इसे मिलाया ही जाता है। अल्कोहल में वेनिला घोलकर 4 से 6 दिन रखने और उसके बाद ग्लिसरीन तथा पानी मिलाकर वनीला की यह सुगंध तैयार की जाती है।
                वैनिलिन                   100 ग्राम
                गिलसरीन                 200 ग्राम
                डिस्टिल्ड वाटर          200 मिली
                गंधहीन अल्कोहल      1200 मिली

वनीला पेस्ट 

ऊपरोक्त वनीला की सुगंध शीघ्र ही उड़ जाती है। मापकर इस मिश्रण में उतनी ही गिलसरीन मिलाने के बाद निरंतर घोटते हुए यदि वाटर बाथ पर अथवा गर्म पानी भरे बर्तन में मिश्रण का पात्र रखकर इसे अच्छी तरह पका लिया जाए तब यह बनीला पेस्ट का रूप ले लेता है। खाद्य पदार्थों में प्रति किलोग्राम 1 ग्राम से भी कम और आइसक्रीम के घोल में प्रति लीटर आधा ग्राम यह पेस्ट मिलाया जाता है। तैयार करते समय दो बातों का विशेष ध्यान रखें। उपरोक्त वनीला एसेंस और ग्लिसरीन तो बराबर मात्रा में लें परंतु तोलने पर दोगुनी क्योंकि ग्लिसरीन पानी से लगभग दोगुनी भारी होती है और अल्कोहल पानी से आधा भारी। इसे मिलाते समय, पकाते समय और ठंडा होने तक निरंतर चलाते रहना आवश्यक है, परंतु अच्छी तरह पकाने के बावजूद सीधे आग पर ना रखें, वाटर बाथ या दोहरी सत्तह के पात्र में पकाएं या गर्म पानी भरी कड़ाही में मिश्रण का बर्तन रखकर।

क्रीम की हाई क्लास सुगंध क्रीम कंपाउंड


ऊपर वर्णित 3 सुगंध मिश्रण को मिलाकर आइसक्रीम मुलायम टाफीयों, केको और पेस्ट्रियों की आईसिंग आदि के लिए यह मिली-जुली सुगंध तैयार की जाती है। इसमें 10 से 15 गुना * कोको फ्लेवर मिलाकर इसे आप चॉकलेट क्रीम का अथवा वनीला फ्लेवर की मात्रा दो-तीन गुना बढ़ाकर वनीला क्रीम का रूप में भी दे सकते हैं।
         मक्खन की कृत्रिम सुगंध ।          500 मिली
         वनीला की कृत्रिम सुगंध             200 मिली
         कोको की कृत्रिम सुगंध              25 मिली
         निरगंध अल्कोहल ।                  200 मिली
अल्कोहल की उपयोगिता मात्र मिश्रण को पतला करना है। अतः मात्रा कुछ भी रखी जा सकती है। मिक्सी में घोटकर तैयार करने के बाद इसे भी ताजा ही प्रयोग किया जाता है।

बादामों का स्वाद व सुगंध almond essence


कड़वे बादाम का तेल प्रयोग किए जाने के कारण इसमें बादामों का स्वाद भी होता है। परंतु कम मात्रा में मिलाए जाने पर प्रमुख उपयोगिता सूगंध ही होती है।
                बेनीलीन             50 ग्राम
               कड़वे बादाम का तेल      50 मिली
               निरोली आयल              1.5 मिली
               बेंजाइलडीहाइड             150 मिली
              बेंजाइल अल्कोहल          1 लीटर

दालचीनी का कृत्रिम तेल cinnamon oil

मात्र 2 मिलीलीटर दालचीनी के शुद्ध तेल से यह 1 लीटर तेल तैयार हो जाता है। जिसमें 5 किलो ग्राम दालचीनी जितनी सुगंध होती है।
            सीलोन सिनेमन आयल             2 मिली
            यूजिनीक एसिड                      4 मिली
            सिनेमिक एल्डिहाइड               960 मिली

लोंग की कृत्रिम सुगंध Clove flavour


               अजवाइन का तेल              50 मिली
               लॉन्ग का तेल                   125 मिली
               बरगामोंट आयल               125 मिली
           चमेंली का अल्कोहल पर बना एसेंस    450 मिली

गरम मसाले का स्वाद और सुगंध Garam masala essence

              अजवाइन का तेल           25 मिली
              लॉन्ग का तेल .              25 मिली
              लेमन आयल                 50 मिली
              निरोंली आयल               75 मिली
              जैसमिन परफ्यूम            50 मिली

गरम मसाले की भरपूर स्वाद युक्त सुगंध Garam  Masala Oil


गरम मसाले के भरपूर स्वाद और सुगंध से युक्त इस विशिष्ट मिश्रण में विभिन्न रसायनो के अनुपात में परिवर्तन करके आप इसे कई स्वाद और सुगंधों में तैयार कर सकते हैं।
          जायफल का तेल अर्थात नेटमेंग आयल । 100मिली
         टोंकाबीन का टिंचर                               100 मिली
         टिंचर वनिला                           50 मिली
         जिरेनियम आयल                     25 मिली
         कैसिया आयल ।                     50मिली

अदरक की सुगंध व स्वाद Ginger essence

अदरक की सूगंध के साथ उसका भरपूर स्वाद भी इसमें होता है। यही कारण है कि जिंजर नामक कोल्ड ड्रिंक तथा अधिकांश चटनियां और केच अपों में इसे मिलाया जाता है। खाद्य पदार्थों में गर्म मसाले की सुगंध  का प्रयोग करते समय भी स्वाद के लिए उनमें लाल या पीली मिर्च के साथ पर्याप्त मात्रा में इस स्वाद प्रदायक सुगंध का प्रयोग किया जाता है। दो बोतलों में अलग-अलग यह एसेंस तैयार किया जाता है। एक बोतल या जार में यह रचक डाले जाते हैं _ 

          अच्छी क्वालिटी की सोंठ ।             150 ग्राम
          पैराडाइज के बीज                        5 ग्राम
          गोल मिर्च ब्लैक पीपर                   5 ग्राम
          नाइट्रिक एसिड                           10 बूंद
          प्युमिस पत्थर का चूर्ण                 15 ग्राम
          गंध रहित अल्कोहल                    1.5 लीटर
सूखी हुई अदरक को सोंठ कहा जाता है और धोकर छिलका उतारे हुई कालीमिर्च को गोल मिर्च। पैराडाइज के बीजों, सोंठ और गोल मिर्च को पाउडर के रूप में पीसकर अल्कोहल में डालकर रख देते हैं। दो-तीन दिन बाद इस बोतल या जार में प्यूमिस नामक पत्थर का पाउडर और नाइट्रिक एसिड भी डाल देते हैं।और  24 घंटे बाद छान लेते हैं। जिस दिन पहली बोतल में उपरोक्त रचक डाले जाते हैं उसी दिन दूसरी बोतल में यह रचक डालकर रख देते हैं_
          नि रोली आयल                1 मिलीग्राम
         अदरक का शुद्ध तेल          20 मिली
         वैनिलिन                          2.5 ग्राम
         गुलाब का इत्र                   15 बूंद
         निरगंध अल्कोहल            1 लीटर

वैनिलिन को थोड़े से अल्कोहल में घोटकर सभी रचक एक बोतल में डाले जाते हैं। इन दोनों ही बोतलों को प्रतिदिन कई बार हिलाते रहते ही हैं। उपरोक्त छना हुआ और यह मिश्रण मिलाने के बाद भी एकाध दिन रखने के बाद ही प्रयोग करते हैं।
मक्खन की दोनों क्रीम की हाई क्लास और वनीला पेस्ट को तैयार करके उसी समय प्रयोग किया जाता है। अन्य सभी सुग़धों को तैयार करने के लिए सभी रचक एक शीशी या जार में भरकर रख दिए जाते हैं और कुछ दिन तक इन्हें नित्य तीन चार बार हिलाते चलाते भी रहते हैं। इन्हें तैयार करने और यदि इनका व्यापार करना चाहे तो पैक करने आदि का संपूर्ण तरीका पिछले पोस्ट परफ्यूम का व्यापार कैसे शुरू करें | How To Start Perfume ... के समान ही हैं। आत: उस पोस्ट् को अवश्य पढ़ें। वैसे भी यह दोनों और पिछला पोस्ट फलों और फूलों का एसेंस ( Flavours And Essences) कैसे बनाएं? तीनों ही पोस्ट एक दूसरे के पूरक और स्वयं में पूर्ण परफ्यूमरी इंडस्ट्री हैं। अतः आप इन तीनों का अध्ययन एक बार करके सभी प्रकार के सुगंध मिश्रण आसानी से तैयार कर सकते हैं।

दोस्ती में पोस्ट आपको पसंद आए तो अपने दोस्तों और मित्रों के साथ जरूर शेयर करें हो सकता है किसी का व्यापार व्यापार खड़ा करने का मन हो और उसकी बेरोजगारी खत्म हो सके।



Share To:

Bajrangilal

Post A Comment:

0 comments so far,add yours