धातु गिरने (प्रमेह) का ayurvedic ईलाज 
इस रोग मे रोगी के पेशाब करते वक्त वीर्य की कुछ बूंदें टपक जाया करती है जिससे रोगी धीरे धीरे शारीरिक वा मानसिक रूप से कमजोर होता चला जाता है यदि इस रोग को समय से ठीक न किया जाए तो रोगी अपना मर्दाना ताकत खो देता है 
कब्ज रहना, अश्लील फिल्म देखना अश्लील बातें सोचना, अत्यधिक मैथुन हस्त मैथुन करना आदि इसके प्रमुख कारण हो सकते हैं 
इस रोग का सबसे सफल इलाज रोगी के विचार को सात्विक करना तथा रोग के कारण को दूर करने के बाद ही किया जा सकता है 
फिट करी 50g को पीसकर 25 पुड़िया बना लें तथा रोज सुबह खाली पेट 1 पुड़िया गुनगुने दूध के साथ ले (ध्यान रहे फिट करी पहले खा कर दूध पीएं, दूध में न मिलाएँ) आज माया हुआ नुस्खा है 
यह नुस्खा स्त्री पुरुष दोनों के लिए है 
जब तक दवा चले मिर्च मसाले, बादी चीजों तथा मैथुन का त्याग करें 
समस्या का समाधान हेतु कमेंट बॉक्स में लिखें 
Share To:

Bajrangilal

Post A Comment:

0 comments so far,add yours