Top News

             

            WASTICKER FOR WHATSAPP


collection of latest and Trending Whatsapp Sticker to share with friend & family











WASticker For Whatsapp
2019 WASticker
Birthday Sticker
Good Night Sticker
Holi Sticker
Gujarati Sticker
WAStickerApp
Alphabets Sticker







All Valentine Day Sticker
Good Morning whatsapp Sticker
Republic Day Sticker
This Application Contains lots of new and latest Sticker Collection to share and save pack in Your personal Whatsapp.
Multiple Categorical Whatsapp Sticker Available in this application.
All Sticker are Trending and New to wishes and Celebrate Any Festival in the worlds
Many category Added This app to get lots of Sticker.







Now Enjoy Adding stickers WAStickersApps Pack. Almost all type of Sticker pack are added in the single app. Apart from adding stickers below are some custom features
2019 New Year and Christmas Sticker available to wishes your all friends and Family
All Category Sticker Package Available to add in your Whatsapp
Daily new stickers for whatsapp!








All Category Mention Below:
Love Whatsapp Sticker
Rose Day Whatsapp Sticker
Promise Day Whatsapp Sticker
Chocolate Day Whatsapp Sticker
Teddy Day Whatsapp Sticker
Propose Day Whatsapp Sticker
Kiss Day Whatsapp Sticker
Hug Day Whatsapp Sticker
Valentine Day Whatsapp Sticker
New Year Whatsapp Sticker
Republic Day Whatsapp Sticker
Sad Whatsapp Sticker
Funny Whatsapp Sticker
God Whatsapp Sticker
Romantic Whatsapp Sticker
Hindi Whatsapp Sticker
Gujarati Whatsapp Sticker
Attitude Whatsapp Sticker
All Other Sticker








IMPORTANT : The "WhatsApp" name is copyright to WhatsApp, Inc. Sticker Pack for whatsapp is in no way affiliated with, sponsored or endorsed by WhatsApp, Inc.
If you notice that any content in our app violates any copyrights than please inform us so that we remove that content. Thank You

KINDLY NOTE:
If you are the owner of any of the image and want to be given credit for your work or want it out of the app - just drop us an email and we will take care of it immediately.





INSTALL APP HERE



      



Privacy Policy

Privacy Policy for WEOK

At WEOK, accessible from https://www.weok.org/, one of our main priorities is the privacy of our visitors. This Privacy Policy document contains types of information that is collected and recorded by weok and how we use it.
If you have additional questions or require more information about our Privacy Policy, do not hesitate to contact us through email at yogesh.jaiswal@gmail.com

Log Files

weok follows a standard procedure of using log files. These files log visitors when they visit websites. All hosting companies do this and a part of hosting services' analytics. The information collected by log files include internet protocol (IP) addresses, browser type, Internet Service Provider (ISP), date and time stamp, referring/exit pages, and possibly the number of clicks. These are not linked to any information that is personally identifiable. The purpose of the information is for analyzing trends, administering the site, tracking users' movement on the website, and gathering demographic information.

Cookies and Web Beacons

Like any other website, weok uses 'cookies'. These cookies are used to store information including visitors' preferences, and the pages on the website that the visitor accessed or visited. The information is used to optimize the users' experience by customizing our web page content based on visitors' browser type and/or other information.

Google DoubleClick DART Cookie

Google is one of a third-party vendor on our site. It also uses cookies, known as DART cookies, to serve ads to our site visitors based upon their visit to www.website.com and other sites on the internet. However, visitors may choose to decline the use of DART cookies by visiting the Google ad and content network Privacy Policy at the following URL – https://policies.google.com/technologies/ads

Our Advertising Partners

Some of advertisers on our site may use cookies and web beacons. Our advertising partners are listed below. Each of our advertising partners has their own Privacy Policy for their policies on user data. For easier access, we hyperlinked to their Privacy Policies below.

Privacy Policies

You may consult this list to find the Privacy Policy for each of the advertising partners of weok.
Third-party ad servers or ad networks uses technologies like cookies, JavaScript, or Web Beacons that are used in their respective advertisements and links that appear on weok, which are sent directly to users' browser. They automatically receive your IP address when this occurs. These technologies are used to measure the effectiveness of their advertising campaigns and/or to personalize the advertising content that you see on websites that you visit.
Note that weok has no access to or control over these cookies that are used by third-party advertisers.

Third Pary Privacy Policies

WEOK's Privacy Policy does not apply to other advertisers or websites. Thus, we are advising you to consult the respective Privacy Policies of these third-party ad servers for more detailed information. It may include their practices and instructions about how to opt-out of certain options. You may find a complete list of these Privacy Policies and their links here: Privacy Policy Links.
You can choose to disable cookies through your individual browser options. To know more detailed information about cookie management with specific web browsers, it can be found at the browsers' respective websites. What Are Cookies?

Children's Information

Another part of our priority is adding protection for children while using the internet. We encourage parents and guardians to observe, participate in, and/or monitor and guide their online activity.
WEOK does not knowingly collect any Personal Identifiable Information from children under the age of 13. If you think that your child provided this kind of information on our website, we strongly encourage you to contact us immediately and we will do our best efforts to promptly remove such information from our records.

Online Privacy Policy Only

This Privacy Policy applies only to our online activities and is valid for visitors to our website with regards to the information that they shared and/or collect in WEOK. This policy is not applicable to any information collected offline or via channels other than this website. Our GDPR Privacy Policy was generated from the Privacy Policy Generator.

Consent

By using our website, you hereby consent to our Privacy Policy and agree to its Terms and Conditions.




सम्पूर्ण शरीर पर छिड़के जाने वाले पाउडर सर्वाधिक मात्रा में बिकते हैं। छिड़कते समय स्वयं फैलते जाना, पसीने को सोखने की अच्छी क्षमता तथा तीव्र एवं टिकाऊ सुगन्ध इनका
सबसे बड़ा गुण होता है। बच्चों के बदन पर छिड़के जाने वाले बेबी पाउडर का भार में हल्का और कोमल होना सबसे बड़ा गुण माना जाता है और पर्याप्त फैलाव क्षमता भी इनमें होती ही है। इन दोनों के विपरीत चेहरे पर लगाए जाने वाले पाउडरों का सबसे बड़ा गुण उनकी आवरण शक्ति अर्थात त्वचा को ढकने की क्षमता और लम्बे समय तक जमे रहने की शक्ति है । कई शेडों में ये पाउडर तैयार किए जाते हैं और पर्याप्त चमक प्रदान करने की क्षमता भी इनमें होती है। परन्तु सुगन्ध और फैलने की शक्ति का इनमें कोई महत्व नहीं। सूखे फेस पाउडरों के साथ ही इन्हें पतली गोल टिकियाओं के रूप में भी तैयार किया जाता है, और सभी वर्ग की महिलाएँ

इनका खुलकर प्रयोग करती हैं।

प्रमुख रचक एवं उनके गुण (Basis Materials)

टैल्क (Talc) सभी पाउडरों का मुख्य आधार रचक है। टैल्कम पाउडरों में तो सत्तर से अस्सी प्रतिशत के मध्य टैल्क होती ही है, फेस पाउडर में भी कुल भार के एक तिहाई से आधे तक टैल्क मिलाया जाता है। सैलखंड़ी (Soap Stone) को परिष्कृत करके भार में हल्का यह टेल्क तैयार किया जाता है और एकदम फाइन पाउडर के रूप में अत्यन्त सस्ती दर पर उपलब्ध है। बहुत अच्छी फैलाव क्षमता और पसीने को सोखना इसका सबसे बड़ा गुण है। टेल्क के स्थान पर बच्चों के पाउडरों में मक्का, चावल अथवा आलू का स्टार्च मिलाया जाता है। भार में बहुत हल्का, स्पर्श में कोमल, अच्छी फैलाव क्षमता तथा पसीने को सोखने की टैल्क से कई गुना अधिक शक्ति होना स्टार्च के प्रधान गुण हैं, तो काफी महंगा होना सबसे बड़ा दोष। टैल्क और स्टार्च की अपेक्षा प्रेसीपिटेड चॉक, मैग्नेशियम कार्बोनेट, केओलीन और कीसुलघर में पसीना सोखने की शक्ति बहुत अधिक होती है और यही कारण है कि टैल्कम और बेबी पाउडरों में इनका गुणवर्द्धक रचकों के रूप में प्रयोग किया जाता है।
महिलाओं के द्वारा प्रयोग किए जाने वाले फेस पाउडर कई घण्टे तक त्वचा पर भली प्रकार जमे रहे, इस प्रयोजन के लिए मैग्निशियम स्टिरेट अथवा जिंक स्टीरेट मिलाया जाता है। कुल भार का चार प्रतिशत स्तिरेट मिलाना ही प्रयाप्त रहता है। त्वचा के वास्तविक रंग को ढकने के लिए सबसे अच्छा जिंक ऑक्साइड का प्रयोग रहता है। टाइटेनियम आक्साइड, मैग्नीशियम ऑक्साइड, मैग्नीशिम कार्बोनेट और विस्मिथ सब कार्बोनेट में भी अच्छी आवरण शक्ति है,परन्तु इनका स्थायित्व कुछ कम होता है। यही नहीं, प्रेसिपेटेड चाक, केओलीन और स्टार्च में भी यह गुण होता है।
 फेस पाउडरों में भी रंग मिलाए जाते हैं और वे भी बहुत कम मात्रा में। किसुलघर, सीयाना, बनर्ट अम्बर जैसी कुछ मिट्टियाँ भी रंगीन होती हैं और पाउडरों में इनका खुलकर प्रयोग होता है। विशिष्ट रंगों के रूप में पानी में न घुलने वाले धात्विक लवणों से बने कास्मेटिक रंगों का प्रयोग किया जाता , जिन्हें  लेक कल अथवा टोनर्स कहा जाता है। सभी रंगों को प्रायः रंग के भार से दस गुने टैल्क में अच्छी तरह से मिलाकर अलग-अलग रख लिया जाता है और फिर आवश्यकतानुसार उन्हें प्रयोग करते रहते हैं। इससे आगे पाउडर में इन्हें मिलाते समय सन्तुलित करने में आसानी रहती है। इनमें प्रायः ही किसी एक फूल की अथवा फूलों की मिलीजुली रसायनों से निर्मित सुगन्ध का प्रयोग किया जाता है। फूलों से निर्मित असली इत्र तो बहुत अधिक महगे हैं, अत: मृदुल रसायनों से निर्मित वे सुगन्धे प्रयोग की जाती हैं जो पर्यात तीक्ष्ण, लंबे समय तक बनी रहने वाली और अधिक महंगी न हों। परन्तु रंग और सुगंध का चयन करते समय सबसे बड़ा ध्यान इस बात का रखना चाहिए कि वह स्वास्थ्य पर घातक प्रभाव डालने वाली न हो और सौन्दर्य प्रसाधनों में प्रयोग करने के लिए सरकार से स्वीकृति प्राप्त हो।


गंध हटाना अर्थात प्रीफिक्सिग (Pre -Fixing)

टेल्क में विशेष रूप से और अन्य सभी आधार रचकों में भी उनकी विशिष्ट गन्धे होती हैं। टेल्क में जो मिट्टी जैसी तीव्र गन्ध होती है उसे हटाना तो अनिवार्य है ही, यदि स्टार्च के अतिरिक्त सभी रचको की गन्ध हटा ली जाए तो अति उत्तम है। इस कार्य के लिए सिन्थेटिक
अंबरग्रीस (Synthetic Ambergris) का प्रयोग होता है और प्रति किलोग्राम टैल्क एक ग्राम यह रसायन पर्याप्त रहता है। एक सौ ग्राम सिन्थेटिक अम्बरग्रीस को तीन सौ ग्राम डाई इथाइल थैलेट अथवा बेन्जियल बेन्जोनेट (D.E.O. or BenzyI Benzonate) में घोल कर एक शीशी में भरकर रख देते हैं। आठ-दस दिन इसे रखा रहने देते हैं और शीशो को प्रतिदिन तीन-चार बार हिलाते भी रहते हैं। तीन- चार किलोग्राम टेल्क में इस चार सौ ग्राम सुगन्ध मिश्रण को अच्छी तरह मिलाकर संपूर्ण टेल्क में मिला दिया जाता है। इस एक क्विंटल टेल्क को ड्रम में भरकर उसका ढक्कन एयरटाइट बंद करके कम से कम आठ दिन रखा रहने देते हैं। इससे टेल्क की मिट्टी की गंध समाप्त हो जाती है।
पाउडरों के निर्माण में इस प्रीफिक्स्ड टेल्क का ही प्रयोग किया जाता है।

पाउडर तैयार करना (Final Processing)

पाउडर में मिलाए जाने वाले सभी रचक मैदा से भी बारीक पिसे हुए आते हैं और सूखे रूप में ही इन्हें मिलाया जाता है। छोटे स्तर पर न तो थोड़े से टेल्क में सुगन्ध को अच्छी तरह से मिलाने के बाद उसे सम्पूर्ण टेल्क में मिलाकर और उस पर अन्य सभी रचक डालकर फावड़े या पालटे से भी मिलाया जा सकता है। मिलाने के बाद मैदा छानने की छलनी में इसे छानने पर रंग सुगंध और सभी रचक परस्पर बहुत अच्छी तरह मिल जाते हैं। एकाध क्विंटल पाउडर्स प्रतिदिन तैयार करते समय भी मात्र एक बाल मिल और एक हाथ से चलाए जाने वाला ग्राइण्डर ही चाहिए। चालीस लीटर क्षमता का विद्युत संचालित बालमिल दस-बारह हजार रुपए के बीच आ आता है, जबकि छह पहलू की मिक्सिंग मशीन अथवा पाउडर मिक्सिग ड्रम तो चार-पांच हजार रुपए में ही तैयार हो जाते हैं।

पांच लीटर से सौ लीटर तक क्षमता का एक बालमिल लेकर सभी प्रकार के पाउडरों, टूथ पाउडरों तथा दन्त मंजनों आदि का निर्माण आसानी से किया जा सकता है। बालमिल नामक
के अपने आधार पर गोलाई में घुमने वाले ड्रम में पर्याप्त मात्रा में स्टील की गोलियां भरी रहती हैं। ये गोलियाँ ड्रम में भरे पदाथों के मिश्रण को कूटने, पीसने और मिलाने का काम बहुत ही अच्छी तरह और अत्यन्त तीव्र गति से करती हैं। कारण यह है कि जब ड्रम घूमता है तब उसमें भरे हुए पदाथों के साथ-साथ ये गोलियाँ भी अनियन्त्रित रूप में घूमती रहती हैं और इनके घर्षण और दबाव से वस्तुएँ पिसती, घुटती और मिलती रहती हैं। छोटे माप का हाथ से घुमाए जाने वाला बाल मिल तो दो हजार रुपए के लगभग ही आ जाता है, जबकि विविध माप और क्षमताओं के विद्युत संचालित बाल मिल भी हर स्थान पर सहज उपलब्ध हैं । कोई भी पाउडर तैयार करते समय पहले इसमें कुल भार का दस-पन्द्रह प्रतिशत टेल्क, रंग और सुगंध डालकर पन्द्रह-बीस मिनट चलाते हैं। इसके बाद सम्पूर्ण टैल्क और अन्य सभी रचक डालकर लगभग इतनी ही देर और चलाया जाता है। इस तैयार पाउडर को छानना भी नहीं पड़ता, तत्काल ही पैक किया जा सकता है।

अच्छा टैल्कम पाउडर (Talcum Powder)

यह अच्छे टेलकम पाउडर का आधारभूत फार्मूला है। इसमें स्टार्च और जिंक ऑक्साइड के स्थान पर भी टेल्क का प्रयोग करने पर सस्ता और घटिया पाउडर बन जाएगा । इसके विपरीत जैसे-जैसे आप स्टार्च की मात्रा बढ़ाते जाएँगे यह भार में हल्का होता जाएगा।
       प्रीफिक्स्ड टैल्क (Talc)                65%
      चावल का स्टार्च (Rice Starch)      15%
      मैग्नेशियम कार्बोनेट (Magnasium Carbonate)                                                            10%
      जिंक आक्साइड (Zincoxide)        5%
      कैलशियम कार्बोनेट (Calcium Carbonate)                                                                   5%
      बोरिक एसिड (Boric Acid)        इच्छानुसार
     सुगंध  मिश्रण (Perfume)            इच्छानुसार

एपल ब्लोसम टैल्कम पाउडर (Apple Blossom Talcum)

घमौरी नाशक यह पाउडर पर्याप्त मात्रा में बोरिक एसिड मिलाकर हल्के गुलाबी या नारंगी रंग में तैयार किया जाता है। सुगंध मिश्रण सहित इस प्रीकली हीट पाउडर का एक सन्तुलित फार्मूला यह भी है-
     प्रीफिक्स्ड टेक (Prefixed Talc)      8 kg
     मैगनेशियम कार्बोनेट (Magnesium Carbonate)                                                              1 kg
     बोरिक एसिड (Boric Acid)            400 ml
     अल्कोहल( Alcohol)                       700 ml
      कर्नेशन पिंक ब्लोसम (Carnation Pink                             Blossom)                           450 से 500 ग्राम
       निरोली ऑयल (Niroli Oil)         30 मिली
       वेनिलीन (Vanillin)                     15 ग्राम

अल्कोहल में कारनेशन पिंक ब्लोसम, निरोली ऑयल और वेनीलिन घोलकर एक शीशी में रख दीजिए। इसे हफ्ते दस-दिन रखा रहने दें बस दिन में दो-तीन बार हिला दिया करें।
पाउडर तैयार करते समय बोरिक एसिड, टेल्क, मैग्नेशियम कार्बोनेट तथा बोतल में भरा हुआ रंग और सुगंध का मिश्रण भी अच्छी तरह मिला दीजिए और दस-पन्द्रह दिन एअर टाइट ड्रम में रखने के पश्चात छानकर पैक कर दीजिए। पैक करने के पूर्व इस पाउडर में स्थित अल्कोहल को उड़ा देना भी आवश्यक है, वैसे पाउडर छानते समय अल्कोहल स्वयं ही उड़ जाता है।

हर्बली बेबी पाउडर (Baby Powder)

उपरोक्त दोनों फार्मूलों में टेल्क के स्थान पर मक्का अथवा चावल के स्टार्च का प्रयोग करके इन्हें बहुत ही अच्छे बेबी पाउडरों का रूप दे सकते हैं। इस पाउडर में केवड़े के पौधों की जड़ों के सूखे चूर्ण का प्रयोग हुआ है, जो भार में हल्की, मन्द और स्थायी सुगन्ध से परिपूर्ण तथा मक्खी मच्छरों को भगाने की क्षमता से युक्त होती है। केवड़े की जड़ों के चूर्ण (Orris Root Powder) का प्रयोग आप टैल्कम पाउडर के पहले फार्मूले के साथ करके उसे भी हर्बल टेलकम पाउडर का रूप दे सकते हैं। औरिस रूट हर्बल बेबी पाउडर का सूत्र इस प्रकार है-
     मक्का या चावल का स्टार्च (Starch)     पाँच किलोग्राम
     प्रीफिक्स टैल्क (Talc)                        दो किलोग्राम
     औरिस रूट पाउडर (Oris Root Powder)                                                                          एक किलो ग्राम
     केओलिन (Kaolin)                           250 ग्राम
     प्रेसिपिटेड चॉक Precipited Chalk)    400 ग्राम
     बोरिक एसिड (Boric Acid)                  600 ग्राम
     बर्गामोट ऑयल या अन्य सुगन्ध                इच्छानुसार

अच्छा फेस पाउडर (Face Powder)

चेहरे पर लगाए जाने वाले ये पाउडर टिन या प्लास्टिक के बड़े मुंह वाले डिब्बों में पैक किए जाते हैं और पाउडर लगाने के लिए पफ का प्रयोग किया जाता है। दीर्ष स्थायी और अच्छी चमक वाले फेस पाउडर का बेसिक फार्मूला इस प्रकार से है-
    प्रीफिक्स किया टैल्क (Pre & fixed Talc).    35%
    केओलीन (Kaolin)                                   20%
    चावल का स्टार्च (Rice Starch)                  10%
    कैल्शियम कार्बोनेट (Calcium Carbonate Light)                                                                     10%
    जिंक ऑक्साइड (Zinc oxide).                  15%
     जिंक स्टीरेट (Zinc stearate) .                 5%
     मैग्नेशियम कार्बोनेट (Magnasium Carbonate)
                                                                   5%
     रंग एवं सुगन्ध (Perfume & Colour)                                                                            आवश्यकतानुसार


कॉम्पैक्ट पाउडर (Compact Powder)

पतली गोलाकार चकत्तियों (Cakes) के रूप में जमे ये पाउडर कपड़े के पतले पफ से चेहरे पर लगाए जाते हैं और प्रायः ही ढक्कन में आइना लगी डिब्बियों में पैक किए जाते हैं। इनकार निर्माण दो चरणों में में पूर्ण होता है। पहले सूखा पाउडर और बाइण्डर अलग-अलग तैयार करते हैं और फिर बाइण्डर में पाउडर को मिलाकर उसे टिकियाओं का रूप दिया जाता है।  उपरोक्त फेस पाउडर के फार्मूले में जिंक स्टियरेट की मात्रा तीन से पाँच गुना तक बढ़ाकर इस प्रयोजन के लिए बहुत ही अच्छा पाउडर तैयार कर सकते हैं-
     ग्लिसरीन मोनो  स्टियरिट (G.M.S.)           150 ग्राम
      सर्बीताल (Serbitoll)                           125 ग्राम 
      गम ट्रेगाकंथ (Gum Tragacanth)        50 ग्राम
      मिनरल ऑयल Minera Oil)                 100 मिली        प्रीजर्वेटिव के रंग( Preservative & Dye) 
                                                       आवश्यकतानुसार 
      ताजा पानी (Frash Water) .                900 मिली
गम ट्रेगाकंथ अर्थात अरब से आने वाले गोंद को पीसकर पानी में घोलकर रख देते हैं। दूसरे दिन इस मिश्रण में सर्बिटल घोल कर 85 अंश सेंटीग्रेट तापमान तक गर्म करें। इसके साथ ही वाटर-वाथ पर अथवा दूसरे बर्तन में मन्द आग पर ग्लिसरीन मोनो स्टियरिक को पिघलाएं और पिघलने पर उसमें मिनरल ऑयल मिला दीजिए। इस मिश्रण को भी 85 अंश सेंटीग्रेट तापमान तक गर्म करने के बाद दोनों मिश्रण मिला दीजिए। दोनों मिश्रणों का तापमान समान होना तो आवश्यक है ही, पानी को धार बांधकर डालना और निरन्तर चलाते रहना भी आवश्यक है। जब  मिश्रण मिलकर एक जान हो जाय तब उसे आग से उतार लीजिए और ठण्डा होने दीजिए। इस समय भी इसे निरंतर चलाते रहना आवश्यक है। ठण्डा हो जाने पर यह मिश्रण शहद की तरह गाढ़ा हो जाता है, और प्राय: ही इकट्टा बनाकर रख लिया जाता है। एक किलोग्राम सूखे पाउडर के साथ पचास-पचपन मिली लीटर यह बाइंडर पर्याप्त रहता है। ढाई-तीन सौ ग्राम पाउडर में यह बाण्डर डालकर आटे की तरह गूंधते रहते हैं और थोड़ा-थोड़ा करके संपूर्ण पाउडर खपा देते हैं। अच्छी तरह से गूंथकर कुछ घण्टे रखा रहने देते हैं और फिर वांछित भार की गोलियां बनाकर प्रत्येक गोली को डाई की सहायता से वांछित आकार दिया जाता है। गोलियों के केेक बनाने के लिए कपड़े धोने के साबुन पर नाम छापने वाली सोप स्टेम्पिंग मशीन तथा गन मेटल की बनी डाई का प्रयोग किया जाता है। इन्हें पैक करने की डिबियाएँ और पफ बाजार में बने बनाए मिल जाते हैं। अपनी ढाई देकर किसी भी साधारण प्लास्टिक की वस्तुएं बनाने वाले यूनिट में भी आप डिबियां तैयार करवा सकते हैं। जहां तक टैल्कम, फेस तथा बेबी पाउडरों का प्रश्न है बड़े निर्माता तो टिन के छपे हुए डिब्बों में इन्हें पैक करते हैं और छोटे निर्माता प्लास्टिक के डिब्बों में।




धूप अगरबत्तियाँ और हवन सामग्री बेचने वाली दुकानें तो एक होती ही हैं, अपने ब्रांडनेम से बड़े स्तर पर इन वस्तुओं का निर्माण करने वाले संस्थान भी ये तीनों वस्तुएं अपने यहां बनाते हैं। जहाँ तक व्यावहारिकता का प्रश्न है वे अगरबत्तियाँ अपने यहाँ नहीं बनाते, बल्कि बाजार से डमी अगरबत्तियाँ खरीदकर उन पर अपने यहां केवल सुगन्ध मिश्रथ चढ़ाते और डिब्बियों में पैक करते हैं। इसके विपरीत धूप की लकड़ी, रबर सोल्युशन, लकड़ियों के बूरादे मूंगफली के छिलके और कुछ गुणवर्द्धक रसायन एवं सुगन्धे मिलाकर और स्वयं मशीनों
पर घोंट पीसकर अपने यहाँ धूप तैयार करते और पैक करते हैं। कच्चेमाल से लेकर निर्माण-प्रक्रिया और पूंजीनिवेश से लेकर मशीनों की अनिवार्यता के क्षेत्र तक ये दोनों उद्योग एक-दूसरे के ठीक विरोधी हैं। सबसे बड़ा अन्तर तो यह है कि आप तैयार धूप में कितनी ही सावधानी के साथ सुगन्ध मिलाएँ, पाँच किलोग्राम धूप को घण्टे भर तक ही चाहे क्यों न कुटें, सम्पूर्ण धूप के कण-कण में वह सुगन्ध अच्छी तरह आत्मसात हो ही नहीं पाएगी। यही नहीं, तैयार धूप में तरल सुगन्ध-मिश्रण मिलाने और बहुत अधिक कूटने-पीटने के कारण वह अधिक मुलायम और चिपचिपी भी हो जाती है। यही कारण है कि रीपैकिंग करने वाले भी प्रायः बाजार से अपनी पसन्द और स्तर की तैयार सुगन्धित धूप खरीदकर अथवा अपने फार्मूले के अनुसार दूसरे निर्माता से बनवाकर उसे वांछित मात्रा में तोल-तोलकर ज्यों-का-त्यों (as-it-is) ही अपनी छपी हुई डिब्बियों में पैक करते हैं।


उद्योग का आर्थिक एवं व्यावहारिक पक्ष (Feasibility)

अगरबत्तियों के विपरीत धूप तैयार करने के लिए कम- से -कम एक ग्राइण्डर, एक तीन अथवा अधिक रोलर लगी हुई रोलर मिल तो चाहिए ही, एज रनर जैसा एकाध हेवी ड्यूटी
मिक्सर कम ग्राइण्डर भी अनिवार्य रूप से चाहिए। छोटे स्तर पर कार्य करते समय भी साठ-सत्तर वर्ग मीटर स्थान, दस हार्स पावर विद्युत और पचास हजार रुपए की मशीनें चाहिए परन्तु जहां तक व्यावहारिकता का प्रश्न है सौ डेढ़ सौ वर्गमीटर स्थान में लगभग एक लाख रुपए की मशीनें लगाकर ही इस उद्योग को अधिक लाभदायक तरीके से चलाया जा सकता है। इस स्तर पर कार्य करते समय आपको लगभग एक लाख रुपए कार्यकारी पूंजी के रूप में तो चाहिए हीं, दस से पचास हजार रुपए पैकिग हेतु डिब्बियों को बनवाने पर भी लग ही जाता है।
इस उद्योग की बड़ी विशेषता तो यह है कि जो निर्माता स्वयं धूप बनाकर अपने ब्राण्ड नेमों से इसे भरपूर मात्रा में बेचते हैं, वे भी अपना अतिरिक्त उत्पादन पाँच किलो ग्राम पिण्डों के रूप में री-पैकर्स को सप्लाई करते हैं। कारण यह है कि इनके निर्माण में कई मशीनों का प्रयोग अनिवार्य रूप से होता है, अतः एक छोटा निर्माता भी एक क्विटल के लगभग धूप प्रतिदिन तैयार करता ही है और अपने पैकिंग में इतनी धूप बेचने के लिए बहुत ही विस्तृत बिक्री व्यवस्था चाहिए। सबसे बड़ी बात तो यह है कि अगरबत्तियों के समान बहुत दूर - दूर तक धूप को भेजना सहज संभव नहीं। प्रायः स्थानीय बाजार और आसपास के नगरों में ही धूप बनाकर बेची जाती है। यही कारण है कि लगभग प्रत्येक धूप निर्माता कई सुगन्धों, विभिन्न गुणवत्ता और मूल्य श्रृंखलाओं में निर्माण करता है और अपने ब्राण्ड नेमों से छोटे पैकिंग में तो विस्तृत बिक्री व्यवस्था के साथ बेचता ही है, छोटे निर्माताओं Repackers) के लिए भी माल तैयार करता है। परन्तु यह तो कोई समस्या नहीं, ये  री-पैकर्स स्वयं आकर आपके यहाँ से माल ले जाते हैं और लगभग प्रतिदिन एक निर्धारित मात्रा में माल उठाते हैं। इस रूप में सौ से डेढ़ सौ वर्गमीटर स्थान में लाख रुपए की मशीनें और तीन-चार लाख रुपए  प्रति कार्यकारी पूंजी के रूप में लगाकर पचास हजार से एक लाख रुपए प्रति माह अर्जित करना सहज सम्भव है।

प्लाण्ट, मशीनें तथा पूंजीनिवेश (Plant and Investment)

बिना मशीनों के धूपों का निर्माण संभव ही नहीं। सूखे रचकों को पीसने के लिए एक  ग्राइण्डर या छोटा पल्चीलाइजर, बाइण्डर तैयार करने हेतु एक रोलर मिल, रबर काटने के लिए टबॉको लीफ चिपिंग मशीन अथवा हाथ की जुगाड़ और बत्तियाँ तैयार करने के लिए सेवइयां बनाने की मशीन तो अनिवार्य रूप से चाहिए ही। छह अथवा अधिक रोलर की रोलर मिल होने पर बाइण्डर में सूखे रचक मिलाकर धूप तैयार करने का कार्य भी उस पर किया जा सकता है। परन्तु व्यावहारिक रूप में इसमें एक बड़ी बाधा है। बाइण्डर तो आधे घण्टे में तैयार हो जाता है | परन्तु रोलर मिल पर बीस-पच्चीस किलोग्राम धूप का घान तैयार होने में तीन घण्टे से भी अधिक समय लगेंगे। इसके विपरीत पेण्ट और प्रिटिग इंक्स के निर्माण में काम आने वाला एज रनर नामक मिक्सर दो घण्टे में ही इतनी धूप तैयार कर देता है। एज रनर का मूल्य और बिजी ।
खपत दोनों ही छह रोलरों वाली रोलर मिल के एक तिहाई से भी कम है और यही कारण है कि लगभग सभी धूप निर्माता बाइण्डर तैयार करने के लिए रोलर मिल और धूप तैयार करने के लिए एज रनर अथवा अन्य किसी ऐसे मिक्सर का प्रयोग करते हैं जो पेस्ट को मिलाने के साथ पीसता भी रहे।
बड़े स्तर पर धुपों का निर्माण करते समय सबसे अच्छा और सस्ता सिद्ध हो सकता है तिलहनों से तेल निकालने वाले लोहे के विद्युत संचालित कोल्हू का प्रयोग। आजकल बिजली से चलने वाले तेल निकालने के ये पुराने कोल्हू कबाड़ के भाव मिल जाते हैं। पचास-साठ किलोग्राम धूप एक बार में तैयार हो जाए इतना बड़ा होता है इनमें लगा पात्र। इन कोलहूओं के
पात्र के मध्य बहुत ही भारी एक मूसली लगी होती है जो पात्र में समांतर गति से घूमती रहती है। इतना भीषण होता है मूसली का दबाव कि जब इन कोल्हुओं में सरसों, मूंगफली, तिल आदि कोई भी तिलहन भरकर कोल्हू चलाया जाता है तब ये बीज न केवल पिस जाते हैं बल्कि उनसे तेल तक बाहर निकल आता है। इस कोल्हू का सबसे बड़ा लाभ तो यह है कि सभी मसाले और जड़ीबूटियाँ साबुत ही इसमें डालकर पहले उनका पाउडर तैयार कर सकते हैं और फिर साबुत ही धूप की जड़ें डालकर धूपबत्ती के पिण्ड तैयार कर सकते हैं। इस प्रकार ग्राइण्डर और मिक्सर दोनों का ही कार्य कर देता है यह कोल्हू।

जहाँ तक पूँजीनिवेश का प्रश्न है उद्योग प्रारम्भ करते समय एक लाख रुपए के लगभग सभी मशीनों की खरीद पर लग जाते हैं और दो-तीन लाख रुपए कार्यकारी पूंजी के रूप में भी
चाहिए। परन्तु बाद में उत्पादन बढ़ाते समय तो केवल कोल्हू अथवा एज रनर ही लेना पड़ता है। क्योंकि एक ग्राइण्डर और एक रोलर मिल ही पाँच क्विटल तक धूप के लिए सूखे रचक पीसने और बाइण्डर तैयार करने के लिए पर्याप्त रहता है। जहाँ तक लाभ प्रतिशत का प्रश्न है सस्ती दर पर बिकने वाली धूपों में भी दस-बारह प्रतिशत शुद्ध लाभ है ही, जबकि अच्छी क्वालिटी की धूपों में तो पन्द्रह से पच्चीस प्रतिशत तक शुद्ध लाभ का अर्जन है।

परम्परागत तथा आधुनिक रचक (Raw Materials)

धूपबत्ती का मुख्य आधार रचक धूप नामक पौधे की सूखी हुई जड़े हैं। हिमाचल प्रदेश और उत्तर प्रदेश के पहाड़ों पर काफी ऊंचाई पर यह झाड़ियों के रूप में उगता है। इस पौधे की पूरी तरह सूखी हुई जड़ों को जब कूटा जाता है तो उनमें से कोलतार जैसा काला, परन्तु तीव्र ज्वलनशील और मन्द सुगन्धयुक्त पेस्ट इतनी मात्रा में निकलता है कि जड़ों की लकड़ी के साथ-साथ कुल भार का तीन चौथाई अन्य लकड़ियों का बुरादा भी इसमें घुल-मिल कर गूथे हुए आटे जैसा पिण्ड बन जाए। पहले तो धूप के पौधों की जड़ों में चन्दन की लकड़ी का बुरादा, कपूर-कचरी, बालछड़, नागर मोथा और खस जैसी सुगन्ध प्रदायक जड़ी-बूटियाँ, लौंग, बड़ी व छोटी इलायची, तेज पत्ते, दालचीनी जैसे कीमती मसाले और गुगुल,लोबान और राल जैसे ज्वलनशील पेड़ों से प्राप्त होने वाले रेजीन डाले जाते थे। परन्तु ये सभी वस्तुएँ बहुत अधिक महंगी हैं, अतः इनसे निर्मित धूप डेढ़ सौ से दो सौ रुपए प्रति किलोग्राम की दर पर पड़ेगी।
आज धूपबत्ती के निर्माण में उपरोक्त रचकों के स्थान पर डमी अगरबत्तियों के समान ही साधारण लकड़ियों के बुरादे, पिसे हुए कोयले और सूखे पत्तों आदि को बारीक पीसकर प्रयोग
करते हैं। वैसे इनमें सबसे अधिक प्रयोग होता है मूंगफली के छिलकों का। मूंगफली के छिलके, भार में हल्के, शीघ्रता से जलने वाले, कम बाइण्डर में भली प्रकार गूंथने में समर्थ तो होते ही हैं, इनका धुआं  भी सफेद होता है। ज्वलनशीलता बढ़ाने के लिए लोबान अथवा गुगुल के प्रयोग की हम कल्पना भी नहीं कर सकते, राल भी काफी महंगी है अतः प्रायः साफ-सुथरा बिरोजा ही मिलाया जाता है। परंपरागत वस्तुओं में शायद धूप के पौधों की जड़ें ही एकमात्र वह वस्तु है

जिसका कम अथवा अधिक मात्रा में प्रयोग आज भी इस उद्योग में हो रहा है।
धूप की जड़े धूपबत्ती में बाइण्डर का कार्य करती हैं, परन्तु महंगी पड़ने के कारण अच्छी धूप में ही इसे प्रयोग कर पाते हैं। इसके स्थान पर आजकल प्रायः ही रबर को सालवेट में
घोलकर बनाए गए पेस्टों का प्रयोग किया जाता है। यह रबर पेस्ट काफी चिपचिपा होता है। अतः चीपक घटाने और तरल रचकों की मात्रा  बढ़ाने के लिए कोई तेल भी इसमें मिलाया जाता हैं। सस्ती धूपों में प्रायः ही जला हुआ मोबिल ऑयल और इसकी गाद तथा ग्रीस मिलाई जाती है तो बहुत अच्छी धूप में नारियल का तेल। देशी घी और जड़ी बूटियों से निर्मित सौ से डेढ़ सौ रुपए प्रति किलोग्राम की दर पर बिकने वाली  धूपो मे भी प्रायः देशी घी, कोई जड़ीबूटी और कीमती मसाला नहीं डाला जाता। अन्तर मात्र यह है कि इनमें भरपूर मात्रा में धूप की जड़ का तो प्रयोग करते ही हैं , जले हुए मोबिल ऑयल के स्थान पर नारियल का तेल और साथ ही भरपूर मात्रा में गरममसाले तथा मक्खन की कृत्रिम सुगन्धे भी मिलाते हैं। जहाँ तक लकड़ियों केबुरादों, मूंगफली के छिलकों और अन्य सूखे पदार्थों का प्रश्न है, उनमें अधिक अन्तर नहीं होता।

सूखे रचकों का समन्वय (Powder Mixing)


धूपबत्तियों के कोई निश्चित फार्मूले नहीं होते। लकड़ियों के बुरादे, सूखे पत्तों और कोयले के पाउडर से लेकर सोयाबीन अथवा मूंगफली की खल तक इनमें ठोस रचकों के रूप में मिलाई जाती है। तेल निकालने के बाद भी खल में पर्याप्त चिकनाई होती है, यह आसानी से मन्द गति से जलती है और अधिक महंगी भी नहीं, अतः प्रायः ही अच्छी धूपों में पर्याप्त मात्रा में मिला ही लेते हैं। वैसे इस उद्योग का सबसे प्रमुख कच्चा माल आज मूंगफली के छिलके बन चुके हैं। सूखा मिश्रण प्रायः ही तीन चौथाई मूंगफली के छिलके, दस से पन्द्रह प्रतिशत लकड़ी का बुरादा, पांच से दस प्रतिशत लकड़ी के कोयले और कुल भार के दो से चार प्रतिशत कलमी शोरा मिलाकर तैयार किया जाता है। मूंगफली के छिलकों के स्थान पर सूखे पत्तों का प्रयोग करते समय सूखे पत्तों, लकड़ी के बुरादे और कोयलों को लगभग समान मात्राओं में मिलाकर
प्रयोग करते हैं। कारण स्पष्ट हैसूखे हुए पत्ते बहुत तीव्र गति से जलते हैं, मूंगफली के छिलके तीव्र गति से, लकड़ियों का बुरादा मध्यम गति से और कोयलों का पाउडर अत्यन्त मन्द गति से। इसी प्रकार पत्तों और मूंगफली तथा चनो के छिलकों से बनी धूप काफी फुसफुसी और भार में हल्की होती है, तो लकड़ियों के बुरादे और कोयलों से निर्मित अधिक ठोस एवं भारी। पत्थर के कोयलों का पाउडर और लकड़ी के कोयलों की मिट्टी मिश्रित झड़न बहुत अधिक भारी तो होते ही हैं जलते भी आसानी से नहीं। 'यही कारण है कि जब अधिक मात्रा में छिलकों और पत्तों का प्रयोग करते समय ही थोड़े बहुत पत्थर के कोयलों की मिलावट कर ली जाती है। अच्छी धूप वही है, जिसमें विभिन्न सूखे पदार्थ इस अनुपात में मिलाए गए हों कि न तो धूपबती बहुत ही जल्द जलकर समाप्त हो जाए और न ही बीच में बुझे । 

पाण्डर के घटक (Binding Materials)


धूप के निर्माण में प्रायः ही रबड़ को पीसकर और किसी साल्वेण्ट में घोलकर पेस्ट बनाने के बाद बाइण्डर के रूप में प्रयोग करते हैं। प्राकृतिक क्रेप रबर सफेद रंग की होती है और
स्मोक्ड रबर काले रंग की। इसके अलावा कई प्रकार की कृत्रिम रबरें भी हैं, परन्तु ये सभी प्रयाप्त महंगी हैं। पुराने टायरों और ट्यूबों आदि से निकाली गई रबर रिक्लेम्ड रबर कुछ सस्ती पड़ती हैं परन्तु अधिक कठिनाई से तो पिसती ही है ज्यादा सस्ती भी नहीं। इन सबके विपरीत  रबर की चप्पलों के तले बनाते समय फालतू निकलने वाले रबर के टुकड़े लगभग मुफ्त ही मिल जाते हैं। हवाई अथवा नायलोन की इन चप्पलों के तले बड़ी-बड़ी शीट के रूप में होते हैं, जिन्हें डाई की सहायता से वांछित आकारों में काटा जाता है। शीट का शेष भाग बेकार फेंका जाता है, जिसको बारीक काटकर आप बाइण्डर तैयार करने के लिए आसानी से प्रयोग कर सकते हैं।
रबर को पीसते समय उसमें ऐसा कोई घोलक या साल्वेण्ट भी मिलाया जाता है जिसमें घुलकर वह पेस्ट का रूप ले ले। साल्वेण्ट के रूप में प्रायः ही एसीटोन, इथाइल एसीटेट, ब्यूटाइल एसीटेट, टाल्विन,बेंजीन, नैफ्था, पैट्रोलियम ईथर और बेन्जेल्डीहाइड जैसे रसायनों का प्रयोग किया जाता है। ये सभी साल्वेण्ट पर्याप्त महंगे और शीघ्र ही आग पकड़ने वाले हैं। अतः इस घोल को पतला करने के लिए थिनर के रूप में तारपीन के तेल, पाइन ऑयल अथवा मिट्टी के तेल के साथ पर्याप्त मात्रा में पानी भी मिलाया जाता है। इसके साथ ही प्रयोग की जाने वाली रेजीनें, बिरोजा और फैक्टाइस के नाम से आने वाली तेलों की गाद तो इस बाण्डर में मिलाई ही जाती है, बिटुमिन नामक विशिष्ट कोलतार का प्रयोग भी इनके निर्माण में आजकल खुलकर हो रहा है।

धूपबत्ती के लिए रबर के बाइण्डरों के कोई निश्चित फार्मूले नहीं हैं। रबर के घोल का प्रयोग चिपकाने के लिए नहीं, मिश्रण को गुंधने के लिए किया जाता है, अतः वही घोल अच्छा रहेगा, जो न तो जल्द सूखे और न ही अधिक चिपचिपा हो। यही कारण है कि पर्याप्त मात्रा में बिरोजा तथा वृक्षों से प्राप्त होने वाली सस्ती रेजीनें तो आप इन बाइण्डरों में मिलाएंगे ही, फैक्टाइस और बिटूमिन् भी पर्याप्त मात्रा में मिला लें। इनकी मात्राएँ हम फार्मूलों में नहीं दे रहे, क्योंकि धूप की  गुणवत्ता और मूल्य के अनुरूप ही इन वस्तुओं की मिलावट की जाती है।

 सस्ता और अच्छा बाइण्डर (Popular Binder)

रबर के साथ दोगुनी मात्रा में रेजीन और तीन गुनी मात्रा में खनिज स्प्रिट अथवा अन्य बिलायक और सवा गुना पानी मिलाने  पर इतना पतला घोल तैयार होता है कि मिश्रण से डेढ़ गुना तक सूखे रचक आसानी से घुटमिल जाएं और पकड़ भी मजबूत बनी रहे। यही कारण है कि पर्याप्त मात्रा में मोबिल ऑयल और फैक्टाइटस तथा अधिक मात्रा में पानी मिलाकर इसमें आप मिश्रण के भार के दो से तीन गुने तक सूखे पदार्थ आसानी से खपा सकते हैं। फैक्ताइट्स, मोबिल ऑयल, अन्य तेल और बिटुमिन आदि आप धूप की क्वालिटी, मौसम और आवश्यकता के अनुरूप कितने भी मिला सकते हैं।

      रबर का चूरा (Rubber Chips)      1 किलो ग्राम
      सख्त रेजीन (Q. I. Resin )             1.75 किलो ग्राम
      खनिज स्प्रिट (Mineral spirit)       3 लिटर
      सनलाइट या निरोल साबुन (Soap)      200 ग्राम
      पानी (Water)                              1.25 लिटर
स्मोक्ड रबर इसमें सर्वश्रेष्ठ रहेगी। वैसे आप हवाई चप्पल की कतरनों का प्रयोग भी कर सकते हैं। रबर को बारीक काटकर और खनिज स्प्रिट में डालकर दो-तीन दिन पहले फूलने के
लिए रख देते हैं। पानी में रेजिन घोलने के बाद रोलर मिल में डालकर रबर रेजिन के घोलों को घोंटते हैं और एक-एक करके अन्य रचक मिला देते हैं। साबुन को थोड़े से पानी में गलाकर सबसे अन्त में मिलाया जाता है। थिनर के रूप में आप आवश्यक मात्रा और सूखने की गति के अनुरूप पानी, अल्कोहल, स्प्रिट या मिनरल ऑयल का प्रयोग कर सकते हैं।
रबर पर आधारित कोई भी बाइण्डर रेजीनों का घोल और धूप की जड़ें पीसने के लिए तीन अथवा अधिक रोलर लगी रोलर मिल तो आपने अनिवार्य रूप से लेनी ही होगी। याद है।
और धूप की जड़ें पीसने लिए तीन अथवा अधिक रोलर लगी मिल तो आपको अनिवार्य रूप से लेनी ही होगी। यदि छह रोलर लगी मिल ले ली जाए, तब सलवेट के खर्च में काफी बचत भी की जा सकती है । तंबाकू की पत्तियाँ काटने वाली टबॉको लीफ चिपिंग मशीन में रबर को बारीक काटने के बाद सलवेट में डालकर फुलाने के स्थान पर सीधे ही मशीन में डालकर चलाने पर रबर मुलायम हो जाती है, तब थोड़ा सा सलवेट और रेजीने डालकर घुटने देते हैं। इसके बाद इस घोल में थिनर, व्हाइट ऑयल और पानी मिलाकर इसी मशीन में उसे पतला करके फाइनल बाइण्डर तैयार कर लिया जाता है।

ट्रिपल रोलर मिल में तो तीन रोलर्स एक दूसरे की बगल में लगे होते है, परंतु पाँच अथवा अधिक रोलरों वाली मशीनों में रोलरों की ऊपर नीचे दो श्रृंखलाएँ होती हैं सभी रोलर एक दूसरे से सटे हुए होते हैं और अलग-अलग गतियों से घूमते हैं। आगे का रोलर मन्द गति से घूमता है और पिछला रोलर तेज गति से। ये बेलन अथवा रोलर धलवा लोहे के और अन्दर से खोखले होते हैं। इनके मध्य भाप अथवा पानी गुजारकर मिश्रण को वांछित तापमान पर नियन्त्रित रखा जा सकता है। प्रायः ही तेज गति से घूमने वाला रोलर गर्म और धीमे
घुमने वाला अगला रोलर अपेक्षाकृत कम गर्म और अन्तिम एकदम ठण्डा रखा जाता है। घोंटते समय मशीन निरन्तर चालू रखी जाती है और सभी वस्तुएँ पिछले रोलर पर ही डालते हैं। बीस हजार से लाखों रूपए तक विभिन्न क्षमता और मापों में आती हैं ये मशीनें, जबकि टबॉको लीफ चिपिंग मशीन तीन से पाँच हजार रुपए के मध्य ही आ जाती है।

रोजीन आधारित बाइण्डर (Rosin Binder)

बहुत ही अच्छी धूपों में इस बाइडर का प्रयोग होता है। इससे बनी धूप लम्बे समय तक मुलायम बनी रहती है और जो भी सुगन्ध मिलाते हैं वह खुलकर असर दिखलाती है। इस फार्मूले का प्रयोग करते समय रबर को साल्वेण्ट में फुलाना नहीं पड़ता। सीधा ही रोलर मिल में डालकर और रोजीन मिलाकर पीस लेते हैं और फिर रेजीन तथा साल्वेण्ट डालकर घोंटने के बाद अन्य सभी रचक मिला लेते हैं-

      रबर का चूरा (Rubber Chips)        500 ग्राम
     कोई रोजीन या सख्त रेजीन (Rosin)   3-4 किलोग्राम
     बिरोजा या मुलायम रेजीन (Resin)      1-2 किलो ग्राम
    विलायक अर्थात साल्वेण्ट (Sovent)      5 लिटर
     थिनर व पानी (Thinner)               आवश्यकतानुसार
इस फार्मूले में आप रबर की मात्रा चार गुने तक बढ़ाकर प्रयोग कर सकते हैं। इस में प्रति सौ ग्राम रबर ढाई सौ मिली लीटर साल्वेण्ट भी आपको अतिरिक्त प्रयोग करना होगा। इस बाइण्डर में फैक्टाइस और नारियल का तेल तथा गर्म मसाले एवं मक्खन की सुगन्ध मिलाकर सर्वोत्तम क्वालिटी की धूपें बनाई जाती हैं। इस तरह की धूप बनाते समय इस बाइण्डर के  साथ धूप की जड़ों का प्रयोग भी अच्छे निर्माताओं द्वारा किया जाता है।



परम्परागत शुद्ध सात्विक रचकों, जड़ीबूटियों और मसालों तथा गुगुल, लोबान और कपूर जैसे सुगन्ध प्रदायक वृक्षोत्पादों का प्रयोग तो अब धूप और हवन सामग्रियों के निर्माण में
भी नहीं होता। जबकि अगरबत्तियों के निर्माण में तो इनकी कल्पना भी नहीं की जा सकती। पहले तो अगरबत्तियाँ अगर की लकड़ी के चूर्ण और जिगेट पाउडर के घोल में चन्दन का बुरादा तथा अन्य सुगन्य प्रदायक द्रव मिलाकर तैयार की जाती थीं, परन्तु अब शायद ही कोई इस प्रकार की अगरबत्तियाँ बना रहा हो। सस्ती से लेकर महंगी तक अगरबत्तियाँ बनाने वाले निर्माता अब अपने यहाँ वास्तव में किसी भी प्रकार की अगरबत्तियों का निर्माण नहीं करते। वे बाजार में प्रति किलोग्राम की दर से बिकने वाली अगरबत्तियाँ लेकर और उन पर मनपसन्द कृत्रिम सुगंध मिश्रण चढ़ाकर अपने ब्राण्डनेम के डिब्बों में रखकर सप्लाई करते हैं। यही कारण है कि आज अगरबत्तियों के निर्माण का यह व्यवसाय दो पूर्णत: पृथक-पृथक उद्योगों का रूप ले चुका है। कुछ व्यक्ति गंधरहित अगरबत्तियों का बड़े अथवा मध्यम स्तर पर निर्माण करके उन्हें थोक बजार में बेचते हैं और दूसरे व्यक्ति बाजार से ये बनी-बनाई अगरबत्तियां लेकर उन पर सुगन्य
चढ़ाने के बाद अपना ब्राण्डनेम छपी हुई डिबियाओं में भरकर सप्लाई करते हैं। तकनीकी भाषा में इन गंधहीन अगरबत्तियों को डमी अगरबत्ती कहा जाता है और व्यावहारिक रूप में आज इनका निर्माण ही न्यूनतम पूंजी का सर्वाधिक लाभ प्रदायक उद्योग है।

प्रमुख विशेषताएँ  (Merisof the Industy

डमी अगरबत्तियों का निर्माण एक ऐसा अद्भुत उद्योग है कि कई क्विंटल अगरबत्तियाँ बनाकर सप्लाई करते समय भी इनके पैकिंग और निर्माण में किसी भी मशीन तो क्या किसी उपकरण तक का प्रयोग नहीं होता। बीड़ियों के निर्माण के समान ही यह भी श्रम पर आधारित एक ऐसा उद्योग है जिसे चन्द हजार रुपए के कुल निवेश से किसी भी गाँव, कस्बे अथवा महानगर की गरीब बस्ती या झुग्गी झोपड़ी, कॉलोनी में आसानी से प्रारंभ किया जा सकता है। मसाला मिश्रण को सामान्य पानी में आटे के समान हाथ से गूंधकर तीलियों पर यह मसाला हाथ से ही चढ़ाया जाता है। महिलाएँ और बच्चे ही नहीं बल्कि असक्त वृद्ध और नेत्रहीन व्यक्ति तक यह कार्य आसानी से कर लेते हैं। यही कारण है कि इस प्रकार  की
अगरबतियाँ बड़े स्तर पर तैयार करते समय भी आपको अपनी कार्यशाला तक की स्थापना करने की जरूरत नहीं पड़ती। घरों में मजदूरी की दर देकर यह आसानी से करवाया जा सकता है। इस प्रकार न तो आपको एक भी कर्मचारी रखना पड़ता है और न ही भवन अथवा मशीनों पर कुछ व्यय होता है। सभी रचक और तैयार बतियाँ काफी सस्ती होती हैं और मौसम से विशेष प्रभावित भी नहीं होतीं,अतः सामान्य टीन शेड में सभी माल आसानी से रखा जा सकता है।

तैयार बतियों और बाइंडर के रूप में प्रयोग किए जाने वाली वस्तुओं को भीगने तथा कच्चेमाल और तैयार बतियों का आग से बचाव ही इस उद्योग की एकमात्र सावधानी है। जहां तक लाभ प्रतिशत का प्रश्न है जितना धन आप इस उद्योग में लगाते हैं उसके आधे से लेकर बराबर तक प्रतिमाह आसानी से अर्जित कर सकते हैं। सभी रचक स्थानीय बाजार में आसानी से मिल जाते हैं, अतः आवश्यकतानुसार खरीदे जा सकते हैं। बत्तियां तैयार होने में एक दिन का समय लगता है और तैयार बत्तियां थोक बाजार में भरपूर लाभप्रद दरों पर नकद ही बिक जाती हैं। यही कारण है कि ग्रामीण क्षेत्र में यह कार्य करने पर भी दस-पन्द्रह दिन के उत्पादन व्यय जितनी कार्यकारी पूंजी से

सफलतापूर्वक कार्य किया जा सकता है। क्वालिटी के अनुरूप आजकल पन्द्रह से तीस रुपए प्रति किलोग्राम की दर पर ये डमी अगरबत्तियाँ थोक में बिक रही हैं,और अच्छा उत्पादक इनमें दो से पांच रुपए प्रति किलोग्राम तक शुद्ध लाभ अर्जित कर ही लेता है।

मुख्य रचक और उनके विकल्प (Rad Maturnals)

पहले तो अगर नामक मुलायम और सुगन्धित लकड़ी का बारीक चूर्ण इनका प्रमुख आधार रचक था और मैदा या जगत नामक लड़की का चूर्ण इनका प्रमुख बाइण्डर था। कर्नाटक
और दक्षिण भारत में उत्पन्न होने वाली ये दोनों लकड़ियां प्रयाप्त महंगी हैं, और यही कारण है कि अब अगर की लकड़ी के स्थान पर तो किसी भी साधारण लकड़ी के बुरादे, पेड़ों के सूखे पतों और छालों तक का प्रयोग किया जाता है। ए इनके साथ लकड़ी के भार के एक तिहाई से आधे तक लकड़ी के कोयले का प्रयोग भी इनमें होता है। वैसे तो कपास के सूखे पौधों को जलाकर तैयार किया गया कोयला सर्वश्रेष्ठ रहता है, या फिर इसके स्थान पर हल्की लकड़ियों के कोयले का प्रयोग किया जा सकता है। परन्तु जहां तक व्यावहारिकता की बात है आजकल इनमें साधारण लकड़ी के कोयले का प्रयोग तो होता ही है, पत्थर के कोयले का भी प्रयोग अनेक निर्माता करते हैं। यहाँ तक कि लकड़ी और पत्थर का कोयला रखने के स्थान पर एकत्र हो जाने वाली धूल का प्रयोग भी कुछ निर्माता करते हैं। परन्तु इसे मिलाने पर बतियाँ कुछ भरी तो
ही जाती हैं वे जलते समय प्रायः बीच-बीच में बुझ भी जाती हैं। 

आपके द्वारा तैयार की गई डमी अगरबतियाँ अन्य व्यक्ति सुगंध मिश्रण चढ़ाकर अपने नाम से इन्हें बेचते हैं। यही कारण है कि इनके निर्माण में प्रयोग किए जाने वाले राचकों की शुद्धता, उनके गुण-दोषों और गंध आदि पर तो नाममात्र का ही ध्यान दिया जाता है, मुख्य ध्यान यही रखा जाता है कि प्रयोग की जाने वाली सभी वस्तुएँ आसपास में ही भरपूर मात्रा में सस्ती दर पर मिल जाएँ। यही कारण है कि सूखे पत्ते और पेड़ों की छाल एवं पतली डण्डियाँ उपलब्ध होने पर उन्हें बारीक पीसने के बाद छानकर भी इस मिश्रण में मिला लिया जाता है। जहाँ तक लकड़ी और कोयले के पाउडरों के अनुपात का प्रश्न है, दो भाग लकड़ी के बुरादे का बारीक पाउडर और एक भाग पिसा हुआ कोयला ही प्रायः मिलाया जाता है। परन्तु जब लकड़ी के बुरादे के पाउडर के साथ पिसे हुए पत्तों, छालों और पतली टहनियों का भी प्रयोग करते हैं तब कोयले के पाउडर की मात्रा थोड़ी बढ़ा ली जाती है, क्योंकि लकड़ी के बुरादे की अपेक्षा ये वस्तुएँ शीघ्रता से जलती हैं। इसी प्रकार आप कौन-सी लकड़ियों का बुरादा प्रयोग कर रहे हैं अर्थात बुरादा पीपल और चीड़ जैसी शीघ्र ज्वलनशील लकड़ियों का है अथवा देवदार, शीशम, जामुन और साल जैसी कठिनाई से जलने वाली लकड़ियों का, या फिर आम और शहतूत जैसी मध्यम स्तरीय लकड़ियों का, इस पर भी कोयले का अनुपात निर्भर करेगा। शीघ्र ज्वलनशील लकड़ियों के साथ कुछ अधिक मात्रा में कोयले का पाउडर मिलाना पड़ता है, तो मंद गति से ज्वलनशील लकड़ियों के  साथ कुछ कम मात्रा में।
आप किसी भी फार्मूले से अगरबत्तियों का निर्माण करें सभी रचकों का मैदा जैसा बारीक पिसा हुआ होना अधिक अच्छा रहता है। यह कार्य आप किसी पल्वीलाइजर वाले से करवा सकते हैं क्योंकि अनेक व्यक्ति मजदूरी पर मसाले, दंत मंजनों के लिए कोयला और गेरू आदि पीसने का कार्य करते हैं। ग्राइण्डर और चक्की के विपरीत पल्वीलाइजर रचकों को पीसता नहीं, बल्कि तीव्रगति से भीषण चोटें मारकर तोड़ता और कूटता है, अतः इसका प्रयोग सर्वश्रेष्ठ रहता है। वैसे आप इसके स्थान पर बिजली से चलने वाले ग्राइण्डर का प्रयोग भी आसानी से कर सकते हैं, क्योंकि अगरबत्ती के रचकों का एकदम फाइन पाउडरों के रूप में पिसना अनिवार्य नहीं।

परम्परागत तथा आधुनिक बाइण्डर (Binders)

जिगेट लकड़ी का पाउडर आज कॉफी महंगा है और यही कारण है कि इसके स्थान पर कुछ समय पहले तक तो अरारोट अथवा आलू और चावल जैसे अखाद्य स्टार्चों का प्रयोग होता था। परन्तु अब तो इनके स्थान पर कैजीन अथवा एलब्यूमिन का प्रयोग ही प्रायः किया जाता है। मक्खन निकले दूध को फाड़कर केजीन (Casein) तैयार किया जाता है और डेयरी प्लाण्टों द्वारा बड़ी मात्रा में बनाए जाने के कारण काफी सस्ता भी है। सामान्य ठण्डे पानी में थोड़ा कास्टिक सोडा, कपड़े धोने का सोडा अथवा अन्य कोई क्षार मिलाने के बाद उसमें बारीक पिसा हुआ केजीन डालने पर वह स्वयं घुलकर बहुत ही अच्छे बाइण्डर का रूप ले लेता है। एलब्यूमिन (Albumin) सूखे हुए खून का ही दूसरा नाम है। पशुओं का वध करते समय जो रक्त निकलता है उसे सुखाकर ही यह एलब्यूमिन तैयार किया जाता है। आज सबसे सस्ते और मजबूत जोड़ लगाने वाले बाइंडर का रूप यह एलब्यूमिन ले चुका है।


गुणवर्द्धक एवं संरक्षक रसायन (Builders)

अगरबत्ती मन्द और एक समान गति से पूरी जले, इस प्रयोजन के लिए अगरबत्ती में कुल भार का दो-तीन प्रतिशत कलमी शोरा अर्थात साल्ट पीटर (SaltPeter) मिलाया जाता है। अगरबत्ती को समान गति में निरन्तर जलाए रखने में शोरे से भी अधिक प्रभावशाली रहा है, पोटशियम नाइट्रेट  (Potassium Nitrate) का प्रयोग। यह एक तीक्ष्ण रसायन है अत: इसे बहुत ही कम मात्रा में मिलाना ही पर्याप्त रहता है। इसी प्रकार पूरी तरह से सूखने के बाद मसाला तीली पर से झड़े नहीं, इस प्रयोजन के लिए कैल्शियम क्लोराइड, जिंक क्लोराइड जैसी मिट्टी या पानी में घोलकर कोई साबून अथवा कोई तेल या मोबिल ऑयल भी कुछ निर्माता मिलाते हैं। वैसे इस कार्य के लिए सर्वश्रेष्ठ रहता है यूरिया नामक रासायनिक खाद का प्रयोग। यूरिया (Urea) जहाँ अच्छा और सबसे सस्ता प्लेस्टीसाइजर है, वहीं इतना जहरीला भी है कि
तैयार बत्तियों को चूहे आदि नहीं काटते और उनमें कीड़ा भी नहीं लगता। बाइण्डर के रूप में एल्ब्यूमिन अथवा केजीन का प्रयोग करने पर एक सावधानी तो यह रखनी पड़ती है कि उसे
घोलने के चार-पाँच घण्टों के अन्दर ही प्रयोग कर लिया जाए। परन्तु सूखने के बाद भी सड़ने की प्रक्रिया रुकती नहीं, अतः एलब्यूमिन बाइण्डर बनाते समय उसके भार का 10% यूरिया फार्मेल्डीहाइड अथवा फार्मेल्डीहाइड नाम वाली अन्य कोई फिनोलिक रेजीन भी अनिवार्य रूप से मिलाई जाती है। इस उद्योग में आपकी सम्पूर्ण सफलता ही इस बात पर निर्भर करती है कि विभिन्न गुण वर्धक रसायनों का प्रयोग करते हुए आप कम-से-कम मूल्य में अच्छा बाइण्डर किस तरह तैयार करते हैं।

बांस की तीलियाँ (Bamboo Sticks)

सभी रचकों में बांस की तीलियाँ ही अभी तक नहीं बदली हैं। सबसे अधिक आठ इंच लम्बी और पतली अगरबत्तियाँ ही बिकती हैं। इनमें प्रयोग की जाने वाली तीलियाँ प्रति किलोग्राम 1500 से 1800 के मध्य चढ़ती हैं। दस और बारह इंच लंबी बत्तियां अथवा मोटी बत्तियाँ भी बनती हैं परन्तु बहुत कम। तीलियाँ खरीदते समय ध्यान रखें कि वे भार में हल्की, गांठ रहित, एकसार, सीधी, समान मोटी और पूर्णतः सूखी हों। उत्तर प्रदेश के कन्नौज नगर से मेसर्स वली मोहम्मद नबी मोहम्मद तीली वाले, कन्नौज इनके एक बड़े सप्लायर हैं। स्थानीय चिक और झाडू आदि बनाने वालों से भी ये तीलियाँ आप आसानी से खरीद सकते  हैं।

सर्वश्रेष्ठ परम्परागत डमी अगरबत्ती (Best Sticks)

फाले से बतियाँ बनाना आज संभव ही नहीं। यह तो हम इसलिए दे रहे हैं कि पहले थोड़ी सी बतियाँ आप इस फार्मूले से बनाकर रख लें, और आगे बत्तियां बनाते समय चेष्टा करें कि आपकी बत्तियाँ भार तथा अन्य गुणों में इनसे निकटतम संभव सीमा तक मिलती-जुलती बने।

       अगर लकड़ी का पाउडर (Agar Powder)   चार किलोग्राम
      जिगट का पाउडर (Jiggat Powder)।     पांच किलोग्राम
         चंदन का बुरादा (Sandawood Powder)     1.5 किलोग्राम
          ताजा पानी (Water)       आवश्यकता अनुसार

दोनों पाउडर मिलाने के बाद आटे की तरह भली प्रकार गूंथकर पिण्ड में कुछ गड्ढे बनाकार उनमें पानी भर दें। तीन-चार घण्टे में यह फूल जाता है। अब पुनः गूंथ कर अगरबत्तियाँ
बना ली जाती हैं।

व्यावहारिक श्रेष्ठ फार्मूला (Good Dummysicks)

डमी अगरबतियों का कोई निश्चित निर्धारित फार्मूला नहीं होता। इस पोस्ट का अध्ययन करने के बाद आप स्वयं बाजार की माँग और कच्चे माल की आपूर्ति के अनुसार फार्मूला सेट कर सकते हैं। वैसे बहुत ही अच्छी डमी अगरबत्तियाँ इस फार्मूले से या इसमें थोड़ा-बहुत परिवर्तन करके तैयार की जा सकती हैं।

     लकड़ी का बुरादा (Saw Dust )     50 किलो ग्राम
     लकड़ी का कोयला (Charcoal)     25 किलो ग्राम
     कलमी शोरा (Salt Peter)             2.5 किलो ग्राम
     यूरिया नामक खाद (Urea)              1.5 किलो ग्राम
    केजीन अथवा एलब्यूमिन बाइण्डर (Binder)   20 लिटर
बाइंडर के अतिरिक्त सभी रचक फाइन पाउडर के रूप में पिसे हुए लिए जाएंगे और इन्हें अच्छी तरह एक जगह मिला कर ही आप कारीगरों को देगे। जहां तक बाइंडर का प्रश्न है निर्माण विधियों सहित चार फार्मूले नीचे दिए जा रहे हैं।

बाइण्डर का सबसे आसान फार्मूला (Easiest Formula)


सभी रचक एक जगह सूखे मिलाने के बाद चार पांच गुने सामान्य ठंडे पानी में घोलकर यह बाइडर तैयार किया जाता है। यही कारण है कि इसे सूखे रूप में भी ठेके पर काम वाले व्यक्तियों को दे सकते हैं।
      लैक्टिक केजीन पाउडर (Casein)    5 किलो ग्राम    
      कपड़े धोने का सोडा (Soda Ash)    1किलोग्राम 
      बुझा हुआ चूना (Prepeated Lime)       500 ग्राम
शायद यह कहने की तो आवश्यकता ही नहीं कि अच्छी क्वालिटी की सामान्य सफेदी की चार- छह दिन पानी में भिगोने के बाद सुखाकर और पीसकर यह बुझा हुआ चूना तैयार  किया जाता है।

कैजीन निर्मित सस्ता बाइण्डर (Cheapest Casein Binder)

केजीन का दस गुना पानी इसमें मिलाया जाता है, परन्तु पतला होने के बावजूद काफी मजबूत पकड़ होती है इस बाइण्डर की।
   लैक्टिक कैजीन पाउडर (Casein)            1.5 किलोग्राम
   मैग्नीशियम ऑक्साइड (Meg. Oxide)           150 ग्राम
   सोडियम वोरेट (Sodium Borrat)               100 ग्राम
   कपड़े धोने का सोडा (Soda Ash)               50 ग्राम
   सूखा खमीर (Yeast)                                 50 ग्राम
   ताजा पानी (Water)                                 25 लिटर
पाँच लीटर पानी में सभी रचक घोलने के बाद छानकर गुठलियां आदि फोड़ दें और सम्पूर्ण पानी मिला लें। निरन्तर चलाते हुए साठ अंश सेण्टीग्रेड(60 ०C) तापमान पर इसे पकाया जाता है। तापमान का विशेष ध्यान रखें और ताप मापने के लिए इण्डस्ट्रियल थर्मामीटर का उपयोग निरन्तर करते रहें।


स्टार्च निर्मित बाइण्डर (Starch Based Binder)

इस फार्मूले में आप मक्का, कसावा, टेप्याको स्टार्च अथवा अरारोट का प्रयोग कर सकते हैं, परन्तु आलू का स्टार्च सस्ता तो है ही अधिक पानी भी खपाता है। दोनों क्लोराइड मिलाए जाने के कारण इसमें कपड़े धोने का सोडा भी नहीं मिलाना पड़ता। दस ग्राम जिंक ऑक्साइड मिला देने पर और एअर टाइट जार या ड्रम में रखने पर तो यह हफ्तों तक खराब भी नहीं होता। परन्तु अन्य बाइण्डरों से कुछ महंगा तो पड़ता ही है।
        आलू का स्टार्च (Potato Starch)      2 किलोग्राम 
        कैलशियम क्लोराइड (CalciumChoride)     950 ग्राम
       जिक क्लोराइड (ZincChloride)             700ग्राम 
       ताजा पानी (Waler)                                17 लिटर
संपूर्ण प्रक्रिया में तापमान पैंसठ डिग्री सेण्टीग्रेड (65 ०C) ही रखना है अतः थर्मामीटर का प्रयोग आप करेंगे ही। इन दोनों फार्मूलों से बाइण्डर बनाते समय मिक्सर लगे वाटर बाथ अथवा दोहरी सतह के मिक्सर का प्रयोग अधिक अच्छा रहेगा। इनके अभाव में आप गर्म पानी की बड़ी कड़ाही में मिश्रण का भगोना रखकर भी काम चला सकते हैं। सारा पानी पैंसठ डिग्री सेल्सियस तापमान करके रख लिया जाता है। इसमें से दो लीटर पानी मिक्सर या बाथ वाटर में डालकर दोनों क्लोराइड डालकर घुलने तक चलाते रहते हैं। फिर निरन्तर चलाते हुए थोड़ा थोड़ा करके स्टार्च डालते हैं और गाढ़ा हो जाने पर थोड़ा पानी डालकर घोंटने के बाद थोड़ा थोड़ा स्टार्च डालते रहते हैं। कई बार में यह क्रिया पूर्ण की जाती है। सारा स्टार्च घुल जाने पर शेष संपूर्ण पानी डालकर निरन्तर चलाते हुए दस पन्द्रह मिनट पकाने के बाद आग से हटाकर जिंक आक्साइड या अन्य कोई जीवाणुनाशक रचक मिला देते हैं। पूरी तरह से ठण्डा हो जाने पर इसे एअर टाइट डिब्बों या जारों में आप हफ्तों के लिए रख भी सकते हैं।


एल्ब्यूमिन निर्मित बाइण्डर (Albumin Binder)

यों तो केजीन निर्मित बाइण्डर भी शीघ्र ही सड़ने लगते हैं और इसीलिए उनमें पर्याप्त मात्रा में कीटनाशक रसायन हम मिलाते हैं। परन्तु सूखा खून होने के कारण एलब्यूमिन बाइण्डरों
से बनी बत्तियों को कीड़ों से बचाने के लिए हम दस प्रतिशत यूरिया फार्मेल्डीहाइड अथवा अन्य किसी फिनोलिक रेजीन, इतना ही कास्टिक सोडा तथा पाँच प्रतिशत चीड़ वृक्ष का तेल मिलाने के लिए विवश हैं। पूरा फार्मूला इस प्रकार है -
        एलयूमिन (Albumin)          1 किलो ग्राम
        फिनोलिक रेजीन (कीटनाशक के रूप में)    100 ग्राम
        कास्टिक सोडा (Sodium Hydroxy)    100 ग्राम
        सोडियम सिलीकेट (SodiumSilicate )  200 ग्राम
        बुझा हुआ चूना HydratedLime)           85 ग्राम
        पाइन का तेल (PineOil)                       50 मिली
वाइण्डर तैयार करने के तीन-चार घण्टे पूर्व पपड़ियों वाले कास्टिक सोडे को सौ मिली लिटर पानी में घोलकर रख दिया जाता है। ढाई लीटर पानी गुनगुना अर्थात साठ डिग्री सेण्टीग्रेड
- गर्म करके मिक्सर में यह पानी, एल्ब्यूमिन तथा फिनोलिक रेजिन डालकर, आधा पाइन आयल भी डाल देते हैं। इसी मध्य बुझे हुए चूने को डेढ़ दो सौ मिलीलीटर पानी कास्टिक सोडा के बराबर ठण्डे पानी तथा सोडियम सिलीकेट को ढाई तीन सौ मिली लीटर गर्म पानी में घोलकर रख लिया जाता है। मिक्सर में घुट रहा पेस्ट अभी बहुत गाढ़ा है अत: दस बारह मिनट की घुटाई के बाद चार लीटर ठण्डा पानी और बाकी बचा पाइन आयल भी उसमें मिला देते हैं। दो-तीन मिनट की घुटाई के बाद चूने का घोल इसमें मिलाकर इसके चार मिनट
 बाद कास्टिक सोडे का घोल अर्थात 50 बामी की कास्टिक सोडे की लाई भी मिला देते हैं। तीन या चार मिनट घोंटने के बाद पानी में घुला सोडियम सिलीकेट मिलाकर पाँच-सात मिनट और घोंटने पर बाइण्डर तैयार हो जाता है।

एल्ब्यूमिन और कैजीन निर्मित ये बाइण्डर बहुत जल्द खराब होने लगते हैं, अतः तैयार होते ही प्रयोग कर लिए जाते हैं। मिक्सर तथा इन्हें बनाने और रखने के सभी पात्रों को भी तत्काल साफ करना अनिवार्य है।यदि नया लॉट या घान (Lot) बनाते समय पुराने का अंश मात्र भी लगा रह जाएगा, तब वह नया घान भी खराब हो जाएगा। बुझा हुआ चूना तैयार करने के लिए देहरादून की सफेदी को पानी में दो- तीन दिन भिगोए रखने के बाद उसके पत्थर आदि निकालकर और शेष भाग को सुखाने के बाद बारीक पीसकर रख लीजिए। जहाँ तक तैयार अगरबत्तियों को बेचने और सभी रचक व रसायन खरीदने का प्रश्न है, पुरानी दिल्ली के खारी बावली क्षेत्र में तिलक बाजार इसका प्रधान केन्द्र है। इस उद्योग के सभी पहलुओं की व्यावहारिक जानकारियाँ भी वहाँ आप आसानी से प्राप्त कर सकते हैं।

घर पर कैसे शुरू करें आयुर्वेदिक मंजन बनाने का बिजनेस? how to make tooth powder at home and grow rich?


परंपरागत आयुर्वेदिक दंत मंजन काले अथवा लाल रंग के, नमक और मसालों के स्वाद से युक्त तथा बहुत कम झाग बनाने वाले होते हैं। इसके विपरीत यूरोपियन फार्मूला से निर्मित टूथ पाउडर दूधिया सफेद, फाइन पाउडर के रूप में, स्वाद में मीठे और अधिक झाग वाले होते हैं। इनके रंग रूप और स्वाद के समान ही इनके आधार रचक और गुणवर्धक रसायन भी पूर्णतया अलग-अलग हैं। परंतु जहां तक निर्माण विधि पैकिंग और बिक्री व्यवस्था का प्रश्न है, पूरी तरह समान है। सबसे बड़ी बात तो यह है कि छोटे स्तर पर इनके निर्माण के लिए कोई मशीन तो क्या विशिष्ट जुगाड़ तक नहीं चाहिए। मात्र हजार दो हजार के कुल पूंजी से पार्ट टाइम व्यवसाय के रूप में इनका निर्माण और पास की दुकानों पर बिक्री आसानी से की जा सकती है। एक बाल मिल और एक ग्राइंडर लेकर लाख रुपए की कार्यकारी पूंजी से इनका निर्माण पर्याप्त बड़े स्तर पर किया जा सकता है,तो करोड़ों रुपए तक का प्रतिवर्ष उत्पादन करने वाले संस्थान में भी 4 -5 लाख रूपए से अधिक की मशीनें नहीं होती। यह एक ऐसा उद्योग है जिसमे मशीनें सुविधा तो प्रदान करती हैं परंतु उद्योग की अनिवार्य आवश्यकता नहीं।

सफेद टूथ पाउडरों के रचक raw materials


सभी प्रकार के मंजनो में प्रयोग की जाने वाली वस्तुओं को मुख्य रूप से दो वर्गों में विभाजित किया जा सकता है -  पालीशिंग एजेंट्स तथा गुण वर्धक रसायन अर्थात बिल्डर्स पालीशिंग एजेंट्स की एक मात्र उपयोगिता मंजन की मात्रा बढ़ाना और दातों पर रगड़ उत्पन्न करना है। जबकि स्वाद से लेकर सफाई तक का संपूर्ण कार्य अल्प मात्रा में मिलाए गए गुणवर्धक रचक और रसायन करते हैं। सफेद मंजनो और सभी टूथपेस्ट में आधार रचक अथवा पालीशिंग एजेंट के रूप में कैल्शियम कार्बोनेट, मैग्नीशियम कार्बोनेट, सामान्य चाक पाउडर, परिष्कृत सॉप स्टोन तथा प्रेसिपिटेटेड चाक जैसे रासायनिक विधियों से जलाकर परिष्कृत किए गए खनिजों और मुलायम पत्थरों का प्रयोग किया जाता है। कुछ मंजनों में अल्प मात्रा में एकदम बारीक पाउडर के रूप में पीसा हुआ संगमरमर अथवा हड्डी का पाउडर भी मिलाया जाता है। कुल भार का 5% इनमें से कोई भी एक मिलाने पर मंजन की सफाई क्षमता में यथेष्ट वृद्धि हो जाती है। वैसे इनमें से कोई भी रचक स्वयं दांतो को साफ करके चमका नहीं पाता। अतः टूथ पाउडरों में झाग बनाने का गुण पैदा करने और उसकी सफाई क्षमता बढ़ाने के लिए उसमें एकदम सूखे हुए साबुन का चूरा भी अत्यधिक कम मात्रा में मिलाया जाता है। इनके स्वाद को मीठा बनाने के लिए सेक्रिन और इन्हें कृत्रिम रूप से सुगंधित बनाने के लिए कोई ना कोई सुगंध अथवा कई सुगंधो को मिलाकर तैयार किया गया सुगंध मिश्रण भी इनमें डाला जाता है।
इन अनिवार्य रचकों के साथ ही एकाध विशेष गुण उत्पन्न करने वाला रसायन भी लगभग प्रत्येक अच्छे टूथ पाउडर और टूथपेस्ट में मिलाया जाता है। दांतों का पीलापन दूर करने के लिए कुछ टूथ पाउडरों और अधिकांश टूथ पेस्ट में प्राय: हाइड्रोजन पराक्साइड मिलाया जाता है। इसी प्रकार दांतो पर जमा हुआ मैल उतारने के लिए सोडियम बेंजोएट जैसे रसायन मिलाए जाते हैं। टूथ पेस्ट तथा टूथ पाउडर में कीटाणु रोधी अर्थात एंटीसेप्टिक क्षमता उत्पन्न करने के लिए अत्यंत अल्प मात्रा में कार्बोलिक एसिड की मिलावट की जाती है। सामान्य खाने का सोडा मिला देने से भी मंजन की मैल काटने की क्षमता और दातों को साफ करने की शक्ति में पर्याप्त वृद्धि हो जाती हैं। ठंडक प्रदायक गुण उत्पन्न करने के लिए अधिकांश लाल, काले और सफेद मंजनों में पुदीना के सत्व अर्थात मेंथोल, अजवाइन के सत्व अर्थात थाइमोल तथा पिपरमेंट को समान मात्रा में मिला कर अथवा किसी एक या दो का प्रयोग किया जाता है।
मेंथोल,थाईमॉल तथा पिपरमेंट ताजगी और ठंडक प्रदायक होने के साथ ही तीक्ष्ण सुगंध से परिपूर्ण और शक्तिशाली जीवाणु नाशक भी हैं। कपूर भी तीक्ष्ण जीवाणु नाशक और सुगंध प्रदायक है। टूथ पेस्ट तथा टूथ पाउडर निर्माण के अंतिम चरण में ही इन्हें मिलाया जाता है। जहां तक व्यवहारिकता का प्रश्न है सफेद टूथ पाउडर और टूथ  पेस्ट के तो कुछ ही फार्मूलों में इन्हें अल्प मात्रा में मिलाया जाता है। परंतु माउथ वास का तो यह मुख्य घटक है।

निर्माण प्रक्रिया एवं मशीनें plant and process


टूथ पाउडर को तैयार करने की संपूर्ण प्रक्रिया टेलकम और बेबी पाउडर को तैयार करने के समान ही है। तथा विभिन्न स्तरों पर उसी प्रकार की मशीनों का प्रयोग किया जाता है।  चाक आदि सभी मिट्टियों का गंध दूर करना अर्थात  प्रीफिक्सिंग इनके निर्माण का प्रथम चरण है। इन सभी जानकारियों के लिए आप कृपया मेरा आने वाला अगला पोस्ट फेस टेलकम तथा बेबी पाउडर अवश्य देखें। क्योंकि ना केवल मशीनें और निर्माण प्रक्रिया बल्कि दोनों के मुख्य आधार रचक भी समान ही हैं। जहां तक पर्याप्त बड़े स्तर पर पाउडरों, दंत मंजनो, पीसे मसालों आदि के व्यवसाय का प्रश्न है, सबसे अच्छा रहता है पलवीलाइजर का प्रयोग। यह पलवीलाइजर मुख्य रूप से दो किस्मों के होते हैं-की सामान्य पलवीलाइजर और माइक्रोपलवीलाइजर। यह विभिन्न मापों, क्षमताओं और मूल्य श्रृंखलाओं में उपलब्ध है, जिनकी कीमत 10000 से लेकर लाखों रुपए तक होती है।
ग्राइंडर और चक्की के विपरीत पलवीलाइजर रचको को पीस्ता नहीं, बल्कि तीव्र गति से भीषण चोटें मारकर तोड़ता और कूटता है। पलवीलाइजर के मध्यवर्ती भाग में अपने आधार पर निरंतर घूमने वाले बड़े राड में स्टील की काफी मोटी परंतु आकार में काफी छोटी सैकड़ों पत्तियां लगी होती हैं। जब पलवीलाइजर चलाया जाता है तब यह मध्य का रॉड   अत्यंत तीव्र गति से घूमता है, और उसमें लगी पत्तियां इसके अंदर पड़े माल पर भीषण चोटें मारती हैं । फल स्वरुप वह वस्तु बारीक पाउडर के रूप में टूटने लगती है। निरंतर घूम रहे रॉड के कारण पलविलाइजर के अंदर वायु का एक चक्र एयर सर्कल बन जाता है। फल स्वरुप बारीक पाउडर के रूप में पीस चुका माल उड़ कर एक स्थान पर एकत्र होता रहता है। इसके पीसे जाने वाले माल भरने के पात्र में माल भर देने पर थोड़ा-थोड़ा मांल स्वयं मशीन के अंदर जाता रहता है, और पीसकर दूसरे द्वार से बाहर निकलता रहता है। इस प्रकार मंजन अथवा किसी भी पाउडर में मिलाए जाने वाले सभी रचक एकदम बारीक पीस तो जाते ही हैं, वे परस्पर बहुत अच्छी तरह मिल भी जाते हैं।

टूथ पाउडर का बेसिक फार्मूला

सामान्य गुणवत्ता युक्त यह मंजन काफी सस्ता तो पड़ता ही है। दांतो को अच्छी तरह से साफ भी कर देता है और पर्याप्त झाग भी बनाता है। इस फार्मूले का प्रयोग करते समय साबुन और सुगंध की मात्रा में आप परिवर्तन कर इसे कई रूप दे सकते हैं।
           कैलशियम कार्बोनेट           1 किलोग्राम
          मैग्नीशियम कार्बोनेट           750 ग्राम
          न्यूट्रल साबुन का चूरा          100 ग्राम
          सोडियम बाइकार्बोनेट          40 ग्राम
          सैक्रिन                              5 ग्राम
          दालचीनी का तेल               4 मिली
          विंटर ग्रीन आयल                3 मिली


अधिक झाग बनाने वाला टूथ पाउडर

मीठे और नमकीन मिश्रित स्वाद और अधिक झाग बनाने वाले इस टूथ पाउडर को मीठा बनाते समय नमक नहीं डालते और दोगुनी सेक्रीन का प्रयोग करते हैं। अधिक मात्रा में साबुन के साथ खाने वाला सोडा भी मिला होने के कारण यह दातों को भली प्रकार चमका देता है। पिपरमेंट आयल और थाइम आयल इसे ठंडक प्रदायक गुण प्रदान करते हैं और नगमेट आयल मसूड़ों में रक्त संचार को तीव्र करता है।
              कैल्शियम कार्बोनेट            3 किलोग्राम
              कीसुलघर                        250 ग्राम
              साबुन का चूरा                  600 ग्राम
              सोडा ऐश                        125 ग्राम
              नमक                              50 ग्राम
              सैक्रीन                             7 ग्राम
              पिपरमेंट आयल                50 ग्राम
              नटमेट आयल                  10 मिली
              अजवाइन का तेल             8 मिली
              यूजीनाल                         8 मिली

दांतों पर जमा मैल उतारने वाला पाउडर


          मैग्नीशियम कार्बोनेट              1 किलोग्राम
          कीसलीघर पिसी हुई               1 किलोग्राम
          सोडियम बेंजोएट                   50 ग्राम
          सफेद फिटकरी                      50 ग्राम
          सेक्रीन                                  2 ग्राम
          पिपरमेंट                               10 ग्राम
          लोंग का तेल                          15 मिली
          केसिया आयल                        8 मिली 

मैल उतारने वाला सस्ता पाउडर

ऊपर वाले फार्मूले में दांतो पर जमा मैल उतारने के कार्य सोडियम बेंजोएट नामक रसायन कर रहा है। परंतु इस फार्मूले में यह कार्य खाने वाला सामान्य सोडा और यूरिया नामक रासायनिक खाद कर रहे हैं। यूरिया अच्छा डिटर्जेंट होने के साथ ही कीटनाशक भी है। परंतु स्वास्थ्य के लिए हानिप्रद और जहरीला तो है ही,मुंह को अधिक ताजगी भी नहीं प्रदान कर पाता यह सस्ता टूथ पाउडर।
         प्रेसिपिटेटेड चाक           1 किलोग्राम
         यूरिया                          500 ग्राम
        डाई अमोनियम हाइड्रोजन फास्फेट     100 ग्राम
        सोडा क्लोराइड               200 ग्राम
       सोडा बाई कार्ब               300 ग्राम
      पिपरमेंट आयल               2 मिली
       विंटर ग्रीन आयल             4 मिली

आयुर्वेदिक दंत मंजन traditional tooth powder


बादाम के छिलकों को जलाकर उनके कोयलों का प्रयोग मंजनों के निर्माण में हमारे देश में प्राचीन काल से होता चला आ रहा है। आजकल सभी कॉले दंत मंजनो में सामान्य लकड़ी के कोयले को बारीक पीसकर प्रयोग किया जाता है। हल्के भाा के कोयलों का प्रयोग ईस कार्य के लिए सर्वश्रेष्ठ रहता है। लाल रंग के दंत मंजन में आधार रचक के रूप में बारिक पीसे हुए गेरू का प्रयोग किया जाता है। कोयले के काले और गेरू की लाल रंग को हल्का करने के लिए इनके साथ पर्याप्त मात्रा में चाक पाउडर अथवा सफेद मंजनों का कोई एक या अधिक पॉलिशींग एजेंट भी मिलाया जाता है। कोयले और गेरू के पाउडर की भी गंध दबाई जाती है, परंतु इन्हें प्रीफिक्स करने के लिए प्राय: ही बनीला की कृत्रिम सूगंध अथवा इसके आधार रचक बैनीलोन का प्रयोग किया जाता है।
कोयले में दांत साफ करने की अच्छी क्षमता है। यही कारण है कि इसमें सफाई के लिए साबुन का प्रयोग नहीं किया जाता, और यह झाग भी नहीं बनाते। तंबाकू के जले हुए पत्तों और नमक का प्रयोग प्राय: सभी मंजनों में होता है, जो जीवाणु नाशक का कार्य करते हैं। सबसे बड़ा अंतर तो यह है कि इन मंजनों में गुण वर्धक रचकों के रूप में रसायनों का नहीं बल्कि परंपरागत जड़ी-बूटियों, घरों में प्रयोग किए जाने वाले अनेक मसालों, कुछ वृक्षों के छाल और सूखी पत्तियों आदि का प्रयोग होता है। इस प्रकार की सभी वनस्पतियों को फाइन पाउडर के रूप में पीसने के बाद पालीशींग एजेंट के मिश्रण में मिलाकर यह दंत मंजन तैयार किए जाते हैं। किसी भी जड़ी बूटी या मसाले को चक्की अथवा ग्राइंडर में पीसने पर उसके गुण बड़ी सीमा तक नष्ट हो जाते हैं। यही कारण है कि इन्हें पीसने के लिए इस मशीनी खरल का प्रयोग सर्वश्रेष्ठ रहता है। इसका रचक भरे जाने वाला पात्र अपने आधार पर घूमता रहता है और मूसली उसे कूटती रहती है, अतः यदि सभी गुण वर्धक रचकों को मिलाकर इस में पीसा जाए तो वे परस्पर ना केवल अच्छी तरह मिल जाते हैं, बल्कि उनके सत्व तक संपूर्ण मिश्रण में समाहित हो जाते हैं।

जड़ी बूटियों पर आधारित आयुर्वेदिक मंजन

आधार रचक अथवा पालिशिंग एजेंट के रूप में कोयले का प्रयोग करने पर गहरा काला और गेरू का प्रयोग करने पर कालिमा युक्त लाल दंत मंजन तैयार होता है। इनके साथ 20 से 50% तक कैल्शियम कार्बोनेट अथवा मैग्नीशियम कार्बोनेट मिला लेने पर रंग हल्का हो जाता है। दांत चमकाने, उन्हें मजबूत बनाने और मुख की दुर्गंध दूर करने वाले सर्वश्रेष्ठ मंजन का सूत्र इस प्रकार है-


        पालिशिंग एजेंट या आधार रचक      20 किलोग्राम
       मौलश्री के वृक्ष की छाल              दो - ढाई किलोग्राम
       रूमी मस्तगी                             500 ग्राम
      भुनी हुई फिटकरी                        500ग्राम
       भुनी हुई सुपारी                         500 ग्राम
       कत्था                                     500 ग्राम
      भुना हुआ सुहागा                       400 ग्राम
      अकरकरा                                 300 ग्राम
       काली मिर्च                              250ग्राम
       दाल चीनी                               100 ग्राम
       काला नमक                            100 ग्राम
      लोंग                                         25 ग्राम
      माजूफल                                   25 ग्राम
      सामान्य नमक या सेंधा नमक        स्वादानुसार
     कपूर अथवा नीम की सूखी पत्तियां    रुचि अनुसार
     गरम मसाले की कृत्रिम सुगंध            इच्छा अनुसार

हर्बल जीवाणु नाशक मंजन

सफेद दंत मंजनों में तो जीवाणुओं के नाश के लिए कार्बोलिक एसिड अथवा बेंजोइक एसिड मिलाया जाता है। परंतु आयुर्वेद में इस कार्य के लिए तंबाकू की पत्तियों, फिटकरी, कपूर, नीम की पत्तियों और बीजों तथा नमक के प्रयोग का विधान है। इस प्रकार का एक पूर्ण संतुलित फार्मूला इस प्रकार से है -

      कोयले अथवा गैरों का पाउडर         2 किलोग्राम
      चाक अथवा सोप स्टोन पाउडर        1  किलोग्राम
      नीम की सूखी पत्तियां                     300 ग्राम
      तंबाकू के सूखे पत्ते                         100 ग्राम
      अकरकरा                                     100 ग्राम
       सफेद फिटकरी                              40 ग्राम
       कपूर                                            40 ग्राम
      मेंथॉल                                           10 ग्राम
     थाइम आयल                                    10 ग्राम
      पिपरमेंट                                         10 ग्राम
प्रत्येक मंजन के डिब्बे पर पूरा फार्मूला अनिवार्य रूप से छपा होता है। अतः आप इस प्रकार के दर्जनों फार्मूले आसानी से प्राप्त कर सकते हैं। वैसे भी इसकी कोई अकाट्य फ़ार्मूले नहीं। जड़ी बूटियों पर आधारित आयुर्वेदिक दंत मंजन के फार्मूले के कुछ रचक आप छोड़ भी सकते हैं। अथवा किसी भी दो तीन फार्मूलों को मिलाकर अपने लिए आसानी से फार्मूला तैयार कर सकते हैं। किसी भी प्रकार का दंतमंजन अथवा टूथ पाउडर तैयार करते समय पहले सभी गुण वर्धक रचकों और रसायनों को थोड़े से पॉलिशिग एजेंट के साथ अच्छी तरह मिलाने और पीसने के बाद संपूर्ण आधार रचक में मिलाते हैं। इसी प्रकार सुगंध और उड़ने वाले रसायन तैयार मंजन में सबसे अंत में मिलाए जाएंगे। यह सिद्धांत से अधिक व्यवहारिकता की बात है। इन्हें प्राय: ही प्लास्टिक की शीशियों में पैक किया जाता है। अत: पैकिंग के लिए मशीनों का प्रयोग भी अनिवार्य नहीं। प्लास्टिक की ये शीशियां स्क्रीन प्रिंटिंग प्रोसेस से छापी जाती हैं। आत: एक बार में 500 जैसी कम मात्रा में भी सफलता पूर्वक बनवाए जा सकते हैं। सबसे बड़ी बात तो यह है कि मात्र कुछ लाख रूपए के निवेश से ही दंतमंजनो और टूथ पाउडर के साथ ही आप टूथपेस्ट और माउथवॉश भी सफलतापूर्वक तैयार कर सकते हैं।